जागरण संवाददाता, फतेहपुर: शनिवार को दिन भर बादलों की ओट में भगवान भास्कर छिपे रहे। सर्दीले मौसम में भोर पहर से लेकर दिन भर बदरी जैसा मौसम रहा। धूप की चाहत में लोग आसमान में निहारते रहें, लेकिन दिनभर धूप नहीं निकली। शनिवार को न्यूनतम तापमान 7 डिग्री व अधिकतम 20 डिग्री सेल्सियस रहा। शाम ढलते ही चार बजे से शीतलहर ने फिर से पैर पसार लिए, जिससे आम जनमानस के साथ पशु पक्षी भी बेहाल रहे। सरकारी दफ्तर में विभागीय कर्मचारी व अफसर हीटर जलाकर काम करते रहे। बच्चे व बुजुर्ग घरों में ही दुबके रहे। शाम ढलते ही शीतलहर ने फिर से पैर पसार लिए। हालांकि प्रमुख जगहों पर अलाव जलने से राहगीरों को खासी राहत मिली।

लगभग एक माह से पड़ रही कड़ाके की ठंड से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। सरकारी, अ‌र्द्ध सरकारी समेत मान्यता प्राप्त सभी कक्षा आठ तक के स्कूल अभी बंद चल रहे हैं। स्कूल-कॉलेज बंद होने से बच्चे तो घरों में ही दुबके रहे। धूप न निकलने से बुजुर्गों का भी बुरा हाल रहा। घरों में लोग हीटर-ब्लोवर के सहारे अपने आपको गर्म करने का प्रयास करते रहे, वहीं ग्रामीण इलाकों में लोग खर-पतवार या फिर बबूलों की झाड़ियों को जलाकर तापते रहे। दो दिन पूर्व जनपद में बारिश व कई इलाकों में हुई ओलावृष्टि से मौसम का मिजाज बदल गया। एक बार फिर सर्द हवाओं ने झकझोर करके रख दिया।

हाड़कपाऊ ठंड में काम करते रहे मजदूर

भीषण ठंड व सर्द हवाओं के बीच मजदूर तबके के लोग काम में मशगूल रहे। विशेषकर भवन निर्माण व सड़क निर्माण में लगे मजदूर कड़ाके की ठंड में भी जीतोड़ मेहनत करते देखे गए। हालांकि ठेकेदारों ने कार्यस्थल पर ही अलाव की व्यवस्था करवा दी थी। जिससे बीच-बीच में अलाव से गर्मी भी लेते रहे।

ठिठुरते हुए निकली कामकाजी महिलाएं

भीषण ठंड में विभिन्न सरकारी व गैर सरकारी संस्थानों पर काम करने वाली महिलाएं ठिठुरते हुए गंतव्य को रवाना हुईं। महिलाओं ने ठंड से बचाव के लिए अपने आपको शाल, टोपी व जैकेट से लैस कर रखा था।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस