जागरण संवाददाता, फतेहपुर : कोरोना वायरस के लेकर किए गए लॉकडाउन में बच्चें मन की बात कहने में किसी से पीछे नहीं है। माध्यमिक शिक्षा विभाग की कोरोना का हराना है, भारत से भगाना है विषयक प्रतियोगिता में बच्चों में भावना के रंगों से ऐसी अभिव्यक्ति उकेरी की देखने वालों को सीख मिल रही है। आयोजित प्रतियोगिताओं में कक्षा 6 से 12 तक के छात्र-छात्राएं घर बैठे प्रतियोगिता में प्रतिभाग कर रहे हैं। डीआइओएस के ई-मेल में प्रविष्टियों में कोरोना जंग की अभिव्यक्ति निहारते बन रही है। प्रविष्टि पर नजर पड़ते ही बच्चों की अभिव्यक्ति सैल्यूट के काबिल बन जाती है।

बच्चों की अभिरुचि इस जंग में सबल कर रही है। प्रतियोगिता के माध्यम से अभी तक बच्चों द्वारा भेजी गई प्रविष्टियों में कक्षा छह की छात्रा आराध्या सोनी ने बनाए गए पोस्टर में चित्रकारी और श्लोगन के माध्यम से संदेश दिया है कि विल फाइट एंड विन। इसी तरह छात्र अनस ने डायग्राम के जरिए 7987 कोरोना वायरस से किस देश में कितने मरीज हैं को लेकर लोगों को जागरूक किया है और कोरोना वायरस से किस तरह से लड़ सकते हैं हाथ धोने, मॉस्क पहनने के टिप्स दिए हैं। इसी तरह कक्षा 8 के छात्र शिवम कुमार ने कोरोना वायरस पर पूरी जागरुकता फैलाते हुए हाथ न मिलाने, लॉकडाउन का पालन करने का संदेश दिया है। महर्षि विद्या मंदिर के प्रधानाचार्य प्रमोद कुमार त्रिपाठी ने कहा कि सीबीएसई स्कूलों के बच्चे भी इस प्रतियोगिता में बढ़-चढ़ कर हिस्सा ले रहे है। डीआइओएस महेंद्र प्रताप सिंह का कहना है कि लॉकडाउन में चित्रकारी सहित श्लोगन और गीत गायन की प्रतियोगिता में बच्चों को अपनी प्रतिभा निखारने का मौका मिल रहा है। जिन्हें जिला स्तर पर सम्मानित किया जाएगा। सभी लोग लॉकडाउन का पालन करें और सुरक्षित रहें।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस