जागरण संवाददाता, फतेहपुर : जिला अस्पताल के सर्जन डाक्टर से मारपीट के एक मामले में नगरपालिका परिषद के चेयरमैन प्रतिनिधि हाजी रजा व सह आरोपित राहत को सीओ सिटी द्वारा पेश की गई रिपोर्ट के आधार पर प्रभारी सीजेएम रोमा गुप्ता की कोर्ट ने तलब किया। सुनवाई बाद दोनों आरोपितों को चौदह दिन की रिमांड में जेल भेज दिया गया।

जेल से इन दोनों आरोपितों को कोतवाली पुलिस भारी पुलिस बल के साथ दीवानी लाई और प्रभारी सीजेएम कोर्ट में पेश किया गया। दोनों आरोपितों को चौदह दिन की रिमांड में फिर जेल भेज दिया गया। विदित रहे कि 22 नवंबर को भाजपा अल्पसंखयक मोर्चा के प्रदेश सह मीडिया प्रभारी फैजान रिजवी से मारपीट व लूट के मामले में मुकदमा हुआ था। जिसमें आरोपित हाजी रजा व इनके सह सह आरोपित शमशाद व राहत ने अदालत में आत्म समर्पण कर दिया था। मामले पर हाजी रजा के अधिवक्ता जगदीश सिंह चौहान ने बताया कि जिला अस्पताल तमें 26 फरवरी 2021 को सर्जन रवि आनंद से हुई मारपीट का पुलिस ने फर्जी मुकदमा दर्ज किया है, उसी मामले पर जेल से उक्त दोनों आरोपितों को प्रभारी सीजेएम की कोर्ट में तलब किया गया था। सभासद विनय तिवारी के समर्थन में जुटे सजातीय, जताई नाराजगी

जागरण संवाददाता, फतेहपुर : भाजपा नेता और चेयरमैन प्रतिनिधि के मध्य हुए विवाद के प्रकरण में सिविल लाइन वार्ड के सभासद पर भी मुकदमा दर्ज किया गया। सभासद पर दर्ज मुकदमे से ब्राह्मण समाज अभी तक इंटरनेट मीडिया में विरोध प्रदर्शन चल रहा था। बुधवार को सजातीयों ने शाम पहर अहिल्याबाई होल्कर चौराहे के समीप बैठक की। सदर विधायक को निशाने पर लेते हुए कहाकि उनके इशारे पर विकास जैसे कामों को प्राथमिकता देने वाले युवा प्रतिनिधि-सभासद को दबाने षड़यंत्र के तहत मुकदमे में फंसाया गया है। इसके साथ ही जिला प्रशासन पर आरोप लगाया कि उभरते हुए युवा राजनैतिक व्यक्ति का दमन करने का प्रयास कर रहा है। पूरे प्रदेश में जिस तरह से ब्राह्मणों पर उत्पीड़न हो रहा है। समाज की मान-मर्यादा को तार तार करने का काम हो रहा है। सभासद को प्रशासन ने अगर दोषमुक्त नहीं किया तो आने वाले समय में सड़कों पर उतर कर विरोध किया जाएगा। बैठक में तमाम ब्राह्मण संगठनों के पदाधिकारी एक छतरी के नीचे दिखे। इस मौके पर प्रभाशंकर द्विवेदी, अनिल अग्निहोत्री, परिणित तिवारी, उमेश तिवारी, जितेंद्र दीक्षित, मनीष द्विवेदी सहित दो सैकड़ा सजातीय मौजूद रहे।

Edited By: Jagran