जागरण संवाददाता, फर्रुखाबाद : अनुदानित जूनियर हाईस्कूलों में शिक्षकों की नियुक्तियों में खेल नहीं चलेगा। पर्दा डालकर की जाने वाली नियुक्तियां अमान्य की जाएंगी। बेसिक शिक्षा अधिकारी ने सोमवार को कार्यभार ग्रहण करने के बाद 'जागरण' से वार्ता में यह बात कही।

1997 बैच के प्रांतीय शिक्षा सेवा के अधिकारी राम¨सह ने सोमवार शाम बेसिक शिक्षा अधिकारी का कार्यभार संभाला। 'जागरण' से वार्ता में उन्होंने कहा कि शासन की योजनाओं का लाभ समय से बच्चों को मिले, छात्र नामांकन वृद्धि व नियमित उपस्थिति पर जोर दिया जाएगा। अनुदानित जूनियर स्कूलों में शिक्षकों की भर्ती में प्रबंधकों की मनमानी व लाखों की वसूली की शिकायतों के सवाल पर उन्होंने कहा कि नियमानुसार नियुक्ति न होने पर अनुमोदन प्रदान नहीं किया जाएगा। इस संबंध में होने वाली शिकायतों का सत्यता से परीक्षण होगा। शिक्षकों के अवकाश की सूचना बीइओ तक

उन्होंने कहा कि शिक्षक छात्र हित में समय से स्कूल पहुंचकर बच्चों को पढ़ाएं। अवकाश की सूचना खंड शिक्षा अधिकारी तक होनी चाहिए। शिक्षकों की समस्याओं का समय रहते निस्तारण होगा। उत्तराखंड के साथ ही वह संतकबीर नगर में भी बीएसए रहे हैं। पूर्व बीएसए राजकुमार पंडित नए बीएसए के आने से पहले ही कार्यभार प्रमाणपत्र पर हस्ताक्षर कर चले गए थे।

Posted By: Jagran