जागरण संवाददाता, फर्रुखाबाद : थाना शमसाबाद क्षेत्र के एक गांव की छात्रा हत्याकांड के मामले में सपा नेताओं के प्रतिनिधि मंडल ने शुक्रवार को स्वजनों से घटना की जानकारी ली। शहर की आवास विकास कॉलोनी स्थित पार्टी कार्यालय में पत्रकारों से बातचीत में सपा नेताओं ने आरोप लगाया कि पुलिस और सत्ता पक्ष घटना के दोषियों को बचाने में जुटे हैं। सरकार सीबीआइ अथवा अन्य किसी सक्षम एजेंसी से जांच कराए।

सपा के कार्यवाहक जिलाध्यक्ष नदीम अहमद फारुकी ने पार्टी कार्यालय में पत्रकारों को बताया कि राजेपुर के ब्लॉक प्रमुख डॉ. सुबोध यादव ने राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को किसरोली कांड की जानकारी दी थी। इसी के बाद पार्टी ने जांच दल गठित किया था। जांच दल में शामिल कन्नौज के सपा विधायक अनिल दोहरे, एमएलसी उदयवीर सिंह, अमित यादव, लीलावती कुशवाहा, बाल संरक्षण आयोग की पूर्व अध्यक्ष जूही सिंह ने पार्टी नेताओं के साथ किसरोली जाकर पीड़ित परिवार से बात की। सपा नेताओं ने छात्रा के पीड़ित पिता को भी मीडिया कर्मियों के सामने पेश किया। पिता ने भी पुलिस कार्रवाई पर सवाल खड़े किए। जूही सिंह ने कहा कि पुलिस व सत्ता पक्ष घटना में दोषी लोगों को बचाने का प्रयास कर रहे हैं। इसी वजह से घटना की एफआइआर कई दिन बाद दर्ज हुई। वह अपनी रिपोर्ट राष्ट्रीय अध्यक्ष को देंगी। सपा के रहते दोषी बच नहीं पाएंगे। विधायक व तीनों एमएलसी ने भी सीबीआइ अथवा अन्य किसी सक्षम एजेंसी से घटना की जांच कराने की मांग की। कहा कि वह यह मुद्दा विधानसभा व विधान परिषद में उठाएंगे। सपा नेता जितेंद्र यादव ने बताया कि सचिन सिंह यादव ने छात्रा की मां को एक लाख रुपये की सहायता दी है। विवेक यादव, मंदीप यादव आदि मौजूद रहे।

शमसाबाद संवाद सूत्र के अनुसार टीम ने दोपहर में गांव किसरोली पहुंचकर पीड़ित परिवार से कमरे में वार्ता की। इसके बाद पुलिस से भी बात की। सपा नेताओं ने कहा कि कागजों पर ही कार्रवाई नहीं चलेगी, अगर पीड़ित परिवार को न्याय नहीं मिला तो पार्टी सड़कों पर उतरेगी। सीओ कायमगंज तथा प्रभारी निरीक्षक भी मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप