जागरण संवाददाता, फर्रुखाबाद : शहरवासियों को जाम की समस्या से निजात दिलाने के लिए पुलिस अब प्रमुख चौराहों और बाजार को गोद लेगी। साथ ही स्थानीय नागरिकों व व्यापारियों का सहयोग भी लिया जाएगा। इसके बावजूद यदि जाम लगा तो संबंधित चौकी इंचार्ज की जवाबदेही होगी। लापरवाही साबित होने पर कार्रवाई की जाएगी।

यातायात माह पर पुलिस महानिरीक्षक मोहित अग्रवाल ने नई व्यवस्था शुरू की है। उन्होंने क्षेत्राधिकारी से लेकर थानेदार और चौकी इंचार्जो की जिम्मेदारी तय कर दी है। यदि जाम लगा तो संबंधित थानेदार और चौकी प्रभारी के खिलाफ निलंबन की कार्रवाई की जाएगी। इसके साथ ही प्रमुख चौराहों और बाजार में यातायात सलाहकार कमेटी बनानी होगी। कमेटी में 10 से 15 लोग शामिल किए जाएंगे। प्रत्येक माह सीओ और एसओ कमेटी के साथ बैठक करेंगे। वह जाम लगने की वजह का पता लगा उसे दूर कराएंगे।

इन स्थानों पर दिन भर फंसते वाहन

त्रिपोलिया चौक, घुमना, लाल सराय, टाउनहॉल कादरीगेट, लालदरवाजा, रोडवेज बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन तिराहा, भोलेपुर, फतेहगढ़ कोतवाली रोड व पांचाल घाट।

नो एंट्री में घुसे भारी वाहन तो नपेंगे पिकेट सिपाही

पुलिसकर्मी ले देकर नो एंट्री में भारी वाहनों को शहर मे प्रवेश करने देते हैं। अब ऐसा करने पर पिकेट सिपाहियों पर निलंबन की कार्रवाई की जाएगी। एसपी ने इस संबंध में मातहतों को निर्देश दिए हैं।

-------------

यातायात माह को देखते हुए चौराहे और बाजार को गोद लेने के आदेश दिए हैं। जाम लगने पर संबंधित चौकी इंचार्ज व थानाध्यक्ष के खिलाफ निलंबन की कार्रवाई की जाएगी। यातायात पुलिस के अलावा थाने और चौकी पर तैनात सिपाही भी जाम खुलवाएगी। सभी की जिम्मेदारी तय कर दी गई है।

-डॉ. अनिल मिश्रा, पुलिस अधीक्षक

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस