जागरण संवाददाता, फर्रुखाबाद : शासन की ओर से भू-जल संरक्षण के लिए पांच वर्ष का रोड-मैप तैयार कर उस पर काम करने के निर्देश दिए गए हैं। कलेक्ट्रेट सभागार में मंगलवार को जिलाधिकारी मानवेंद्र सिंह की अध्यक्षता में हुई बैठक के दौरान सभी विभागों को अपनी-अपनी कार्य योजनाएं शीघ्र प्रस्तुत करने के निर्देश दिए गए। अटल भू-जल योजना के तहत ब्लाक कमालगंज को चयनित करने के भी निर्देश दिए। जिलाधिकारी ने कहा कि सभी ग्रामों में हैंडपंप पर शतप्रतिशत सोकपिट का निर्माण कार्य कराया जाए। ग्रामों में निर्माणाधीन नए भवनों पर रेनवाटर हार्वेस्टिग सिस्टम अवश्य लगाया जाए। तालाबों की सफाई व सौंदर्यीकरण कराया जाए। कार्ययोजना इस प्रकार बनाई जाए जिससे वर्षा के समय पूरे गांव का पानी सीधे तालाबों में आए और उस पानी को सुरक्षित किया जा सके। गंदे पानी का तालाबों में अलग से निस्तारण किया जाए। जिलाधिकारी ने मुख्य विकास अधिकारी को निर्देशित करते हुए कहा कि पिछले तीन वर्षों में तालाबों पर कराए गए कार्यों का भौतिक सत्यापन किया जाए। यह भी देखा जाए कि निर्माण व सौंदर्यीकरण के लिए बार-बार उन्ही तालाबों को चयनित तो नहीं किया जा रहा है। बैठक में सीडीओ एम. अरून्मोली, प्रभागीय निदेशक सामाजिक वानिकी पीके उपाध्याय, अपर जिलाधिकारी विवेक श्रीवास्तव व अन्य विभागों के संबंधित अधिकारी मौजूद रहे।

राजस्व वसूली में आबकारी बेहतर, खनन फिसड्डी राजस्व वसूली की समीक्षा के दौरान पाया गया कि आबकारी विभाग द्वारा विगत वर्ष के सापेक्ष बेहतर वसूली की गई है। खनन में राजस्व प्राप्ति की स्थिति खराब पाई गई। जिलाधिकारी ने संबंधित विभागों को अभियान चलाकर तेजी के साथ वसूली कराने के निर्देश दिए। उप जिलाधिकारियों को निर्देश दिए गए कि तहसीलों में निर्धारित समय में दाखिल-खारिज किया जाए। जनपद में चिह्नित भू माफियाओं के विरुद्ध कार्रवाई की रिपोर्ट प्रस्तुत करने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि लंबित विभागीय कार्रवाई का एक माह में निस्तारण अवश्य किया जाए।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप