फर्रुखाबाद (जेएनएन)। अराजकतत्वों ने सोमवार रात शहर की घोड़ानखास चौकी परिसर में स्थित मंदिर में स्थापित दुर्गा प्रतिमा खंडित कर माहौल बिगाडऩे की कोशिश की। सुबह घटना की जानकारी होने पर मौके पर भीड़ लग गई। हिंदूवादी संगठनों के नेता भी पहुंच गए। लोगों ने पुलिस के खिलाफ जमकर हंगामा किया और खरीखोटी सुनाईं। कुछ लोगों ने उत्तेजक नारेबाजी शुरू कर दी। इसी बीच एसपी ने मौके पर पहुंचकर कार्रवाई का आश्वासन दिया और समझा-बुझा कर स्थिति को नियंत्रण में किया। आननफानन में दूसरी प्रतिमा मंगाकर मंदिर में स्थापित कराई गई। 

दुर्गा प्रतिमा खंडित

फर्रुखाबाद की शहर कोतवाली के मोहल्ला घोड़ानखास स्थित पुलिस चौकी परिसर में ही मंदिर है। जिसमें शिवलिंग, हनुमान जी व मां दुर्गा की प्रतिमाएं स्थापित हैं। हनुमान मंदिर में तो लोहे का गेट लगा है, लेकिन शिव व दुर्गा मंदिर में जालीदार आधा गेट ही लगा है, जिसमें ताला नहीं लगता। रात में शरारती तत्वों ने दुर्गाजी की प्रतिमा खंडित कर दी। मोहल्ले के ही निवासी संजीव बाजपेयी सुबह पूजा-अर्चना करने पहुंचे तो उनकी नजर खंडित प्रतिमा पर पड़ी। उन्होंने आसपास के लोगों को जानकारी दी तो मौके पर भीड़ जमा हो गई। चौकी प्रभारी दिनेश कुमार गौतम भी आ गए। कार्यवाहक कोतवाली इंचार्ज त्रिभुवन सिंह ने घटनास्थल पर पहुंचकर अधिकारियों को सूचना दी।

नई प्रतिमा स्थापित

इसी बीच हिंदू जागरण मंच जिलाध्यक्ष राघव दत्त मिश्रा, नंदी संकल्प सेना के प्रमुख विक्रांत अवस्थी, हिंदू युवा वाहिनी के जिला महामंत्री आशीष गुप्ता व सफाई कर्मचारी हरिओम बाल्मीकि समर्थकों के साथ पहुंच गए और हंगामा शुरू हो गया। जय श्रीराम के साथ ही कुछ लोगों ने उत्तेजक नारे लगाए। चौकी के सभी पुलिस कर्मियों को निलंबित करने की मांग भी उठाई गई। विवाद बढऩे की सूचना पर एसपी दयानंद मिश्रा, एएसपी त्रिभुवन सिंह घटनास्थल पर आए। एसपी ने उत्तेजित भीड़ को कार्रवाई करने का आश्वासन दिया। एसपी के आदेश पर दुर्गाजी की नई प्रतिमा स्थापित करा दी गई। खंडित प्रतिमा को पुलिस ने कब्जे में ले लिया। मोहल्ले के ही निवासी अमन शर्मा की तहरीर पर अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया।

Edited By: Nawal Mishra