जागरण संवाददाता, फर्रुखाबाद : जनपद में खाद की किल्लत और कालाबाजारी के बावजूद पीसीएफ के बफर गोदामों भंडारित डीएपी व एनपीके समय से समितियों को न भेजने के चलते बुधवार को डीएम ने दोनों बफर गोदामों मजिस्ट्रेट की ड्यूटी लगाकर प्रेषण शुरू कराया था। इसके बावजूद पर्याप्त मात्रा में खाद का उठान न होने से नाराज जिलाधिकारी मानवेंद्र सिंह गुरुवार को स्वयं पीसीएफ गोदाम पर जा धमके। उन्होंने वहां पर मौजूद पीसीएफ के जिला प्रबंधक मोहित गुप्ता को जमकर फटकारा और गुड फार पेमेंट का इंतजार किए बिना दो दिन में सभी समितियों को स्टाक भेजने के निर्देश दिए।

जिला प्रबंधक की मनमानी के चलते सहकारी समितियों और इफको विक्रय केंद्रों पर खाद की आपूर्ति बाधित चल रही थी। इसके चलते जनपद में खाद की कालाबाजारी शुरू हो गई थी। किसानों की लगातार शिकायतों के बाद बुधवार को डीएम ने पीसीएफ के सातनपुर और बघार नाला स्थित बफर गोदामों पर मजिस्ट्रेट तैनात कर प्रेषण शुरू कराया था। हालांकि पूरे दिन में मात्र 390 मीट्रिक टन खाद का ही उठान किया गया। इससे नाराज डीएम गुरुवार को स्वयं बफर गोदाम पर पहुंच गए। वहां पर मौजूद पीसीएफ जिला प्रबंधक मोहित गुप्ता की जमकर फटकार लगाई। उन्होंने कहा कि गुड फार पेमेंट चेक का इंतजार किए बिना सभी समितियों को खाद भेजी जाए। भुगतान सुनिश्चित कराया जाएगा। उन्होंने साथ गए अपर जिलाधिकारी विवेक श्रीवास्तव व जिला कृषि अधिकारी को निर्देश दिए कि खाद के समितियों तक पहुंचने में जहां भी गड़बड़ी मिले उसकी तत्काल जानकारी दें और संबंधित के खिलाफ कार्रवाई सुनिश्चित करें। जिला कृषि अधिकारी डा. आरके सिंह ने बताया कि गुरुवार को 675 मीट्रिक टन खाद का प्रेषण किया गया है। खाद का उठान शुक्रवार को भी जारी रहेगा।

Edited By: Jagran