जागरण संवाददाता, फर्रुखाबाद : जिला मुख्यालय पर बने शव विच्छेदन गृह (पोस्टमार्टम हाउस) में संविदा पर पांच लोगों को चौकीदार व सफाई कर्मचारी के पद तैनाती की गई। इन सभी को शिफ्टों के हिसाब से ड्यूटी करनी थी। ताकि शव विच्छेदन गृह में नियमित सफाई होती रही और रात में अगर किसी का शव आए तो डीप फ्रीजर में रखवाने की व्यवस्था की जा सके, लेकिन पांच कर्मचारियों में दो कर्मचारी साहब के बंगले में चाकरी कर रहे हैं। जब कि दो कर्मचारी ने सेटिग कर अपनीे ड्यूटी सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर लगवा ली है। अब एक कर्मचारी ही तैनात है। पोस्टमार्टम हाउस के लिए शासन से दो फार्मासिस्ट की नियुक्त की गई थी। एक फार्मासिस्ट यहां से चले गए। इसके अलावा अलग से पांच सफाई कर्मचारी, चौकीदारों की संविदा पर तैनाती की गई थी। ताकि रात में चौकीदार पोस्टमार्टम हाउस में रहकर शव आने पर उन्हें डीप फ्रीजर में रखवा सकें और नियमित सफाई करते रहे। कुछ दिन तक तो सब कुछ ठीक चला। बाद में दो कर्मचारियों को सीएमओ आवास पर और दो कर्मचारियों को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र से संबद्ध कर दिया गया। अब एक ही कर्मचारी है, वह भी दिन में ड्यूटी कर चले जाते हैं। कर्मचारियों के न होने पर मौजूद स्टाफ को निजी व्यवस्था से साफ सफाई करना पड़ती है। इस संबंध में मुख्य चिकित्साधिकारी डा. सतीश चंद्रा ने बताया कि उनके आवास पर कर्मचारी संबद्ध है, इसकी जानकारी नहीं है। हो सकता है उनके आने से पहले संबद्ध किया गया हो। मामले को दिखवाकर समस्या का निस्तारण कराएंगे।

दो डीप फ्रीजर खराब

पोस्टमार्टम हाउस को चार डीप फ्रीजर मिले थे। ताकि इनमें शव रखे जा सकें, लेकिन दो डीप फ्रीजर छह माह से खराब पड़े हैं। अभी तक डीप फ्रीजर को ठीक नहीं कराया जा सका है।

Edited By: Jagran