जागरण संवाददाता, फर्रुखाबाद : यूपी दिवस और राष्ट्रीय बालिका दिवस का संयुक्त आयोजन रविवार को राजकीय इंटर कॉलेज फतेहगढ़ में भव्य आयोजन किया गया। इस अवसर पर विभिन्न क्षेत्रों से आई बालिकाओं ने कार्यक्रम प्रस्तुत किए। कविताओं से लेकर नृत्य नाटिकाएं तक प्रस्तुत की गई। वहीं ताइक्वांडो सीख रही बेटियों ने स्टेज पर सिर से टाइल्स को तोड़ने और गुंडों से निपटने का प्रदर्शन किया तो दर्शक दीर्घा में हजारों तालियां एक साथ बज उठीं। जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक ने प्रथम प्रसव में जुड़वां बेटियों को जन्म देने वाले दंपती व मेधावी छात्राओं को सम्मानित किया।

जिलाधिकारी ने राष्ट्रीय बालिका दिवस व यूपी दिवस की बधाई देते हुए कहा कि आज बेटियां हर क्षेत्र में आगे है। ग्रामीण क्षेत्रों में बेटियों को आज भी लक्ष्मी का रूप माना जाता है। लिग भेद तो नगरीय मानसिकता का विकार है। उन्होंने हरियाणा में लिगानुपात के असंतुलन का उदाहरण देकर लोगों को चेताया। इंटर व हाईस्कूल प्रथम व द्वितीय स्थान पर रही छात्राओं को पुरस्कृत किया गया। प्रथम प्रसव में ही जुड़वां बेटियों को जन्म देने वाले दंपती भी सम्मानित किए गए।

पुलिस अधीक्षक अशोक कुमार मीणा ने कार्यक्रम में कहा कि आज भी हमारे समाज में कई कुरूतियां, असमानताएं और भेदभाव मौजूद है। इसी को दूर करने के उद्देश्य से बालिका दिवस जैसे कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। वंशिका पैंसिया ने नृत्य नाटिका व एनएकेपी इंटर कॉलेज की छात्राओं ने बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओं पर लघु नाटिका प्रस्तुत की। आखिर में ताइक्वांडों सीख रही बेटियों ने अपने हुनर दिखाए। सिर से टाइल्स तोड़ने व गुंडों की पिटाई के प्रदर्शन ने सबका मन मोह लिया। इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक, मुख्य विकास अधिकारी, जिला विकास अधिकारी, जिला कार्यक्रम अधिकारी, जिला पंचायत राज अधिकारी एवं संबंधित अधिकारी कर्मचारी आदि उपस्थित रहे।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021