अयोध्या : रेलवे में निजीकरण को लेकर रेल कर्मचारी संगठनों के तेवर तल्ख होने लगे हैं। रविवार को रेलवे के अलग-अलग कर्मचारी संगठनों ने फैजाबाद जंक्शन पर प्रदर्शन कर विरोध दर्ज कराया।

उत्तरीय रेलवे मजदूर यूनियन (यूआरएमयू ) की ओर से हुए प्रदर्शन का नेतृत्व संगठन के सचिव मुकुल सक्सेना ने किया। उन्होंने कहाकि केंद्र सरकार निजीकरण को बढ़ावा देकर देश के करोड़ों कर्मचारियों के परिवार का भविष्य अंधकारमय कर रही है। निजीकरण ऐसे ही बढ़ता रहा तो युवाओं का भविष्य पूंजीपतियों के हाथ गिरवी हो जाएगा। केंद्र सरकार रेल, संचार, बैंक सब बेचने पर उतारू है। अब समय आ गया है की इस निरंकुशता पर लगाम लगाने के लिए एकजुट होकर विरोध दर्ज कराया जाए। सरकार के मजदूर व नौजवान विरोधी नीतियों के खिलाफ पूरी मजबूती से आवाज उठानी होगी। धरने में अवधेश दुबे, रितेश श्रीवास्तव, अंजुला सक्सेना, मोनू निषाद, सरोज, अनारादेवी, सोनी, सुषमा, अंशुमाली जायसवाल, अंकित यादव, राजन यादव, राम उजागिर यादव, कौशल शर्मा, अवधेश यादव, दीपक शुक्ला, विक्रांत सिन्हा, दीपक सिंह आदि मौजूद रहे।

नार्दन रेलवे मेंस यूनियन (एनआरएमयू) ने फैजाबाद जंक्शन पर रेल बचाओ- देश बचाओ दिवस मनाकर निजीकरण का विरोध किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता शाखा अध्यक्ष अंजुम मुख्तार खान ने की तथा संचालन शाखा मंत्री हीरालाल ने किया। संगठन ने रेलवे की कर्मचारी विरोधी नीति और रेलवे को निजी हाथों में सौंपने का विरोध किया। संजीव कुमार, वीबी सिंह, रमाकांत यादव, अंबिका मौर्य, हनुमान प्रसाद मिश्र, एसआरआर रिजवी, नीरज श्रीवास्तव, राजकुमार गुप्त आदि मौजूद रहे। अयोध्या रेलवे स्टेशन पर एनआरएमयू के उपाध्यक्ष विजय कुमार और स्टेशन मास्टर महेंद्रनाथ मिश्र के नेतृत्व में विरोध प्रदर्शन किया गया। इस मौके पर राजीव रंजन, अवनीश कुमार, एसपी दुबे, विनोद कुमार, राहुल पांडेय, कृति पांडेय, संजीव वर्मा आदि मौजूद रहे।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप