अयोध्या : कोरोना जांच की व्यवस्था पटरी से उतरती नजर आ रही है। जिस ट्रूनेट मशीन के जरिए कोरोना जांच को गति देने का दावा किया जा रहा था, वह उद्घाटन के दस दिन बाद ही धोखा देने लगी है। मेडिकल कॉलेज दर्शननगर में लगी ट्रूनेट मशीन के दो चैनल खराब हो गये हैं। ऐसे में यह मशीन अब चार में से दो नमूनों का ही परीक्षण कर रही है। इसके परिणामस्वरूप कई जांचें लंबित हैं। मेडिकल कॉलेज इस मशीन से जांच के लिए 15 सौ रुपये भी लोगों से ले रहा है। फीस जमा करने के बाद भी लोगों को समय पर कोरोना जांच की रिपोर्ट नहीं मिल पा रही है वहीं आरटीपीसी जांच के लिए भेजे गये नमूने बड़ी संख्या में लंबित हैं।

मेडिकल कॉलेज दर्शननगर में शासन की तरफ से कोरोना जांच के लिए पांच करोड़ से अधिक की लागत से लैब तैयार होना है। इसमें किसी कारणवश देरी को देखते हुए कॉलेज प्रशासन ने चार चैनल वाली ट्रूनेट मशीन को स्थापित करा दिया। इसका आरंभ बीती 23 जून को डीएम अनुज कुमार झा ने फीता काट कर किया था। इस मशीन से सबसे पहले ऑपरेशन व डायलिसिस के लिए भर्ती मरीजों की जांच की जानी थी। अब उससे शुल्क जमा करने वाले सभी लोगों को जांच की सुविधा दी जा रही है। सीएमएस डॉ. अरविद सिंह ने बताया कि दो चैनल खराब जरूर हुए हैं। उसके बाद भी दो चैनल से जांच का काम चल रहा है। रिपोर्ट मिलने में थोड़ी देरी हो रही है। जल्दी ही खराब चैनल भी सही करा दिया जायेगा।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस