अयोध्या, जागरण संवाददाता। राजर्षि दशरथ मेडिकल कालेज दर्शननगर को एक और डायलिसिस मशीन मिली है। यह मशीन मिलने से इमरजेंसी में भर्ती मरीजों को राहत मिलने लगी है। इससे पूर्व कालेज में एक ही मशीन के सहारे डायलिसिस की सुविधा एक दिन में तीन मरीजों को ही मिल पा रही थी। उससे अधिक संख्या होने पर लखनऊ और निजी अस्पतालों में जाना पड़ता था। यह सुविधा कालेज प्रशासन मरीजों को निश्शुल्क दे रहा है।

मेडिकल कालेज में 2019 से मरीजों को इलाज मिलना आरंभ हो गया था। उसके बाद भी गुर्दा रोगियों को डायलिसिस की सुविधा उपलब्ध न होने से काफी परेशान होना पड़ता था। इस समस्या को देखते हुए प्रधानाचार्य ने शासन को कई बार पत्र भेज कर मशीन उपलब्ध कराने की मांग की थी। 

पत्र को संज्ञान में लेकर शासन ने कुछ माह पूर्व एक मशीन उपलब्ध करायी थी, लेकिन किडनी के रोगियों की संख्या अधिक होने से एक दिन में सिर्फ तीन मरीजों को ही लाभ मिल पाता था, जिससे कुछ मरीजों को नंबर का इंतजार कई दिनों तक करना पड़ रहा था। इसको देखते हुए करीब 12 लाख रुपये की एक और मशीन को कालेज की तरफ से दो दिन पूर्व मंगवा कर इंस्टाल कर एक दिन में तीन मरीजों की डायलिसिस भी की गयी। 

इन्होंने कहा…

पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप (पीपीपी) माडल पर मेडिकल कालेज में 12 मशीनें लगाकर संस्था डायलिसिस कर रही है, जिसका भवन, बिजली आदि की पूरी व्यवस्था कालेज की तरफ से दिया जा है। उसके बाद भी एक भी कालेज में भर्ती मरीजों का डायलिसिस नहीं हो रहा था, जिससे कालेज की मशीनों को लगाना बहुत जरूरी हो गया था। अब संस्था की तरफ से लगी मशीनों को कालेज भवन से हटाने के लिए उच्चाधिकारियों को पत्र भेजा जाएगा।

-डा. सत्यजीत वर्मा, प्रधानाचार्य।

Edited By: Shivam Yadav

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट