जागरण संवाददाता, इटावा : प्रदेश सरकार द्वारा जनपद को उपलब्ध कराई गई वैक्सीन को कड़ी सुरक्षा के बीच कानपुर से गुरुवार की शाम को इटावा लाई गई। इसकी सुरक्षा के लिए दो कांस्टेबल व एक एसआइ के साथ स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी कानपुर भेजे गए थे। बच्चा अस्पताल में वैक्सीन के पहुंचने पर सीएमओ डॉ. एनएस तोमर व जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ. सतेंद्र यादव भी मौजूद रहे। छह पुलिस कर्मियों की निगरानी में वैक्सीन को रखवाया गया है।

जैसे ही वैक्सीन आई, गाड़ी को सुरक्षा घेरे में ले लिया गया। किसी भी कर्मचारी को वाहन के पास नहीं आने दिया गया। सीसीटीवी कैमरे के बीच वैक्सीन को सुरक्षित फ्रीजर में रखा गया तथा तापमान जांच के लिए एक कर्मचारी की तैनाती की गई।

सीएमओ ने बताया कि पहले चरण में 9 हजार 799 कर्मचारियों को टीका 16 जनवरी को लगाया जाएगा। दूसरे चरण में फ्रंट लाइन वर्कर, पुलिस कर्मचारी व सफाई कर्मचारियों को तथा तीसरे चरण में 50 वर्ष अथवा उससे अधिक उम्र के लोगों का टीकाकरण किया जाएगा।

जिलाधिकारी श्रुति सिंह ने कोरोना वैक्सीन को लेकर बच्चा अस्पताल का निरीक्षण किया। उन्होंने विशेष चैबर को देखा और कहा कि पहले चरण में स्वास्थ्य कर्मचारियों को वैक्सीन लगाई जाएगी दूसरे चरण में पुलिस कर्मियों व अन्य वॉलियंटर्स को जबकि तीसरे चरण में 50 साल से ऊपर के लोगों को वैक्सीन लगाई जाएगी। उन्होंने टीकाकरण व बच्चों की ओपीडी की धीमी गति पर रोष जताया और अगले सप्ताह तक सभी व्यवस्थाएं पूर्ण करने के निर्देश दिए। जिलाधिकारी ने सीएमओ से कहा कि गुरुवार को कोई अवकाश नहीं है। बाबजूद इसके बच्चा डॉक्टर नहीं आए हैं। सीएमओ ने कहा कि सैफई मेडिकल कॉलेज प्रशासन से पूर्णकालिक चिकित्सक तैनात करने को कहेंगे। इससे पूर्व उन्होंने बच्चों के टीकाकरण कक्ष का निरीक्षण किया।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021