दुष्कर्मी ने पुलिस को चकमा देकर किया अदालत में समर्पण

जासं, एटा: स्पेशल पॉक्सो कोर्ट से सजा सुनाने से पहले ही भागे दुष्कर्मी को पुलिस की पांच टीमें ढूंढती रहीं। पुलिस को चकमा देकर उसने अदालत में समर्पण कर दिया, जहां से उसे पुलिस अभिरक्षा में जेल भेज दिया गया। बुधवार दोपहर अलीगंज कोतवाली क्षेत्र के ग्राम टपुआ निवासी दीपू उर्फ कुलदीप ने स्पेशल पाक्सो कोर्ट में समर्पण कर दिया। इसके बाद उसे पुलिस अभिरक्षा में जेल भेज दिया गया। उसके विरुद्ध वर्ष 2014 में जैथरा थाने में 13 वर्षीय बालिका को बहला फुसलाकर ले जाने और उसके साथ दुष्कर्म करने का मामला दर्ज हुआ था। मामला अदालत में विचाराधीन था। वह 28 जुलाई को मामले की तारीख करने स्पेशल पॉक्सो कोर्ट में आया हुआ था। अदालत ने दोष सिद्ध होने पर आरोपित को हिरासत में लेने के पुलिस को निर्देश दिए थे। पुलिस ने उसे कठघरे में बैठा लिया। कोर्ट मुहर्रिर राकेश कुमार चैंबर में मौजूद जज से वारंट पर हस्ताक्षर कराने गया कि तभी मौका लगते ही दीपू उर्फ कुलदीप अदालत से भाग गया था। संबंधित मामले की रिपोर्ट कोर्ट मुहर्रिर ने कोतवाली नगर में दीपू उर्फ कुलदीप के खिलाफ दर्ज कराई थी। अदालत से भागे दुष्कर्मी की धरपकड़ को कोतवाली नगर के अलावा जैथरा समेत पांच टीमें लगाई गई थीं। दुष्कर्म के आरोपित को अभी सजा सुनाया जाना बाकी है।

Edited By: Jagran