जासं, एटा: नगर पालिका परिषद एटा बोर्ड की बैठक में सभासदों ने खूब हंगामा किया। अफरा-तफरी के बीच 50 करोड़ रुपये के आय-व्यय बजट को मंजूरी दे दी गई। सभासदों ने सीवर लाइन बिछाने को लेकर घपले की शिकायत भी बैठक में मौजूद एसडीएम से की।

बैठक के शुरूआत में ही उपस्थिति दर्ज कराने को लेकर सभासदों में कहासुनी शुरू हो गई। इसे लेकर कानूनी किताबों का सहारा लेना पड़ा। इसके बाद सभासदों ने उपस्थिति रजिस्टर पर अपने हस्ताक्षर किए। सभी सभासदों ने शहर के अंदर होने वाले जलभराव की समस्या अपने-अपने वार्ड में बताई। इसके अलावा सीवर लाइन डालने में हो रहे खेल की भी सभासदों ने एसडीएम अबुल कलाम को शिकायत दर्ज कराई। सभासद विजेन्द्र गुप्ता बब्बू ने कहा कि अनुपम कांपलेक्स में बनी दुकानों का आवंटन करने के लिए लोगों से लाखों रुपये ले लिए हैं, मगर उन्हें सालों बाद भी दुकानें आंवटित नहीं की गई हैं। सभासद बिटटू पचौरी ने कहा कि नाले के ऊपर जनरेटर आदि रखकर लोगों ने अतिक्रमण कर लिया है इसे हटवाया जाए। वहीं नगर पालिका ईओ डा. दीप कुमार वाष्र्णेय ने कहा कि 50 करोड आय व्यय संबंधी विशेष बजट के लिए बैठक की गई। इसी बजट से कर्मचारियों का वेतन देते हुए शहर के अंदर विकास कार्य होगें।

--------

सफाई कर्मियों का टोटा

नगर पालिका बजट बोर्ड बैठक में मौजूद अधिकांश सभासदों ने कहा कि उनके वार्ड का क्षेत्र बड़ा है। दस से लेकर बीस मुहल्ले तक वार्ड में आते हैं। जबकि सफाई के लिए तीन और चार कर्मचारी तैनात हैं। इसे लेकर मुहल्लों में सफाई व्यवस्था ठीक नहीं हो पाती है। जिसे लेकर संचारी रोक फैलने को लेकर लोगों में संभावना दिखाई देती है।

Edited By: Jagran