जागरण संवाददाता, एटा: कलक्ट्रेट धरना स्थल पर अधिगृहण के सापेक्ष उचित मुआवजा मिलने के लिए चल रहा ग्रामीणों का अनशन गुरुवार को प्रशासन के आश्वासन के बाद समाप्त हो गया। धरने पर पहुंचे एसडीएम ने ग्रामीणों की समस्याओं को सुना और सरकार के निर्देशों के क्रम में जमीन के अधिगृहण का मुआवजा देने का आश्वासन दिया।

एटा-कासगंज मार्ग के चौड़े होने और अलीगढ़ व कासगंज मार्ग के बीच बाईपास निकलने के लिए कई ग्रामों में ग्रामीणों की जमीन को प्रशासन द्वारा अधिगृहण किया था, जिसमें कुछ क्षेत्रों को अर्ध शहरी बताते हुए चार गुने के स्थान पर मात्र दो गुना मुआवजा देना प्रस्तावित किया। जिस पर 15 जून से ग्रामीणों ने प्रशासन के खिलाफ अनशन शुरू कर दिया। गुरुवार को मौके पर पहुंचे एसडीएम महेंद्र ¨सह तंवर ने ग्रामीणों की समस्याओं को सुना और उनका उचित निराकरण कराने और सरकार के निर्देशों के क्रम समुचित मुआवजा दिलाने का आश्वासन दिया। जिस पर ग्रामीणों ने अपना अनशन समाप्त कर दिया।

इस मौके पर अखिल संघर्षी राष्ट्रीय अध्यक्ष समग्र विकास परिषद, राकेश कुमार पूर्व प्रधान, ब्रजमोहन, दिनेश चन्द्र फौजी, धर्मपाल, राजीव कुमार, सुधीर यादव, हाकिम ¨सह, योगेश कुमार, रनवीर ¨सह राजपूत, योगेश गुप्ता, वीरेन्द्र ¨सह, अजब ¨सह, नेत्रपाल ¨सह, राधाकिशन त्रिपाठी, डॉ. पन्नालाल वर्मा सहित आदि लोग उपस्थित रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस