जासं, एटा: अपहरण में वांछित पांच हजार के इनामी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। इससे पहले इसी अपहरण कांड में चार आरोपित और गिरफ्तार किए जा चुके हैं।

दो माह पूर्व विजय कुमार निवासी गांव रनौसा थाना जलेसर हाल निवासी मुहल्ला प्रेम नगर जलेसर का अपहरण शरद निवासी गांव मुकुटपुर थाना सकरौली किया था, लेकिन विजय आखिरी वक्त पर निधौली कलां में बदमाशों के चंगुल से छूटकर भाग निकला। इस काम के लिए शरद ने कुछ बदमाशों को अपहरण और हत्या की सुपारी भी दी थी। दो लाख रुपये में सौदा तय हुआ था, लेकिन समय रहते पुलिस ने चार बदमाशों को पूर्व में ही गिरफ्तार कर लिया था, लेकिन शरद फरार चल रहा था। शहर कोतवाली प्रभारी निरीक्षक सुभाष बाबू कठेरिया ने आगरा रोड से शरद को भी गिरफ्तार कर लिया, उसके पास से तमंचा भी मिला है।

सीओ सिटी राजकुमार ने प्रेस काफ्रेंस में बताया कि विजय का शरद पर एक लाख रुपया उधार था, जिसे शरद देना नहीं चाहता था। इसके अलावा शरद ने पूर्व में विजय सिंह की बहन के साथ छेड़छाड़ भी की थी, जिसकी वजह से वह रंजिश मानता था। इसीलिए शरद ने रंजीव यादव निवासी अहरमई, नरेंद्र उर्फ मोदी निवासी नगला गुमानी, सुखदेव उर्फ लाला निवासी रूपसपुर तथा अविनाश उर्फ अक्कू निवासी लालपुर को दो लाख रुपये में विजय सिंह की अपहरण और हत्या करने की सुपारी दी थी, लेकिन यह पोल पूर्व में ही खुल गई और यह चार लोग पहले ही गिरफ्तार हो गए थे। सीओ ने बताया कि मामले का पटाक्षेप हो चुका है।

Edited By: Jagran