जागरण संवाददाता, एटा: जिले में प्राकृतिक संसाधनों के सूखने के कारण फसलों की ¨सचाई के लिए परेशान किसानों को राहत देने के लिए निचली गंगा नहर से नाले निकालने के लिए ¨सचाई मंत्री को सालभर पूर्व भेजे प्रस्ताव पर कोई कार्रवाई न होने से भाकियू पदाधिकारियों में सोमवार को भारी आक्रोश रहा। आक्रोशित पदाधिकारियों ने कलक्ट्रेट पर बैठक की तथा जिलाधिकारी को भेजे ज्ञापन में समस्या निदान न होने पर आंदोलन की चेतावनी दी।

हुआ यह कि एटा-निधौली रोड पर अरथरा, मुखरना, जिटौली, रामनगर, नगला डिलाई, गूदरगंज, नगला भजा, रुस्तमगढ़, पलिया, पैसई, बड़ा गांव, नगला दिलीप आदि गांवों में खारे पानी और ¨सचाई की समस्या को दूर करने के लिए भारतीय किसान यूनियन ने बीते साल मई के महीने में ¨सचाई मंत्री को प्रस्ताव भेजा था। जिसे विधायक मारहरा वीरेंद्र कुमार वर्मा ने भी अग्रसारित किया था। प्रस्ताव के एक साल होने के बावजूद अभी तक ¨सचाई मंत्री व शासन की ओर से कोई प्रयास नहीं हुआ। जिससे नाराज भाकियू पदाधिकारियों ने सोमवार को कलक्ट्रेट धरना स्थल पर प्रदर्शन किया और निचली गंगा नहर से नाला निकालने के लिए जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपा। जिसमें 21 मई तक कार्ययोजना न बनने पर आंदोलन की चेतावनी दी गई।

इस मौके पर प्रदेश सचिव ओमप्रकाश, जिलाध्यक्ष रमेश चंद्र ¨सह यादव, अनूप ¨सह, आरपी ¨सह, मंडल उपाध्यक्ष राजवीर ¨सह, सुभाष चंद्र, अशोक कुमार, रामेश्वर, धर्मवीर, संतराम, रामबाबू, सुनहरीलाल आदि मौजूद थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस