एटा, जासं। मलावन क्षेत्र में हाईटेंशन लाइन में फॉल्ट से उठी चिगारी शोला बन गई। देखते ही देखते आग से 63 बीघा क्षेत्र में खड़ी गेहूं की फसल स्वाहा हो गई। अग्निशमन दल के देर से पहुंचने पर ग्रामीणों में आक्रोश भड़क गया। उन्होंने गाड़ी पर पथराव कर दिया।

रविवार शाम चार बजे ग्राम कंगरौल निवासी शेर सिंह और उसके भाई चरन सिंह के खेत से गुजर रही हाईटेंशन लाइन के तारों में फॉल्ट होने से निकली चिगारी खेत में खड़ी गेहूं की फसल पर आ गिरी। देखते ही देखते आग ने दोनों भाइयों के 10 बीघा खेत में खड़ी गेहूं की फसल को अपने आगोश में ले लिया। इसके बाद सूरज सिंह के 11 बीघा, मुन्नालाल के नौ बीघा, जगदीश सिंह और अमोल सिंह के 10-10 बीघा, लोकेंद्र व संजय कुमार के 5-5 बीघा तथा रामस्वरूप के दो बीघा और नगला मोती निवासी जुगेंद्र सिंह के एक बीघा खेत में खड़ी गेहूं की फसल धू-धूकर जलने लगी।

ग्रामीणों ने आग की सूचना पुलिस को दी, जिस पर अग्निशमन दल को मुख्यालय से बुलाया गया। एक घंटे देर से अग्निशमन दल के पहुंचने पर ग्रामीणों में आक्रोश पनप गया। उन्होंने अग्निशमन दल की गाड़ी पर पथराव कर दिया, जिससे उसकी लाइटें टूट गईं। आक्रोशित ग्रामीणों ने कुछ पुलिस कर्मियों को भी दौड़ाया। सीओ सकीट देव आनंद पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच गए। उन्होंने समझा-बुझाकर ग्रामीणों को शांत किया। ग्रामीणों का कहना है कि इस अग्निकांड से प्रभावित 10 परिवार दाने-दाने को मोहताज हो गए हैं। चिह्नित होंगे पथराव करने वाले

सीओ का कहना है कि अग्निशमन दल की गाड़ी पर पथराव करने वाले लोगों को चिह्नित किया जाएगा। अग्निशमन दल की ओर से तहरीर मिलने के बाद उपद्रवियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। एसओ मलावन विपिन त्यागी ने बताया कि पथराव के संबंध में देर शाम तक अग्निशमन दल की ओर से कोई तहरीर नहीं दी गई है।

Edited By: Jagran