जागरण संवाददाता, देवरिया: जनपद के बरहज तहसील में राप्ती एवं घाघरा नदी के संगम स्थल कपरवार से ग्राम कुर्ह परसिया तक बाढ़ सुरक्षात्मक कार्य के लिए प्रदेश सरकार ने 58 करोड़ 83 लाख 26 हजार की परियोजना को मंजूरी दी है। इसका प्रस्ताव पास हो गया है। टेंडर का कार्य भी हो गया है। दस दिन के अंदर यहां कार्य शुरू हो जाएगा। इसकी तैयारियां जोरों पर है। इस परियोजना से कपरवार, कटइलवा व ऐतिहासिक रामजानकी मार्ग सुरक्षित हो जाएगा।

संगम स्थल पर नदी की धारा दूसरी दिशा में मुड़ गई है। जिससे तेज गति से कटान हो रही है। इसे प्रदेश सरकार ने काफी गंभीरता से लिया और गांवों के अस्तित्व को बचाने के लिए परियोजना को मंजूरी दी है।

--------------------

नदी में विलीन हो रहे खेतों का बचेगा अस्तित्व

कपरवार में संगम तट से कटइलवां गांव तक नदी लगातार कटान कर खेती की जमीन लील रही है। एक माह के भीतर कटान से तकरीबन पंद्रह बीघा खेत नदी की धारा में समा गए। कटान लगातार जारी है।

-------------------

लोगों ने मुख्यमंत्री को दिया धन्यवाद

भाजपा नेता भूपेंद्र सिंह, प्रमोद सिंह ने कहा कि परियोजना स्वीकृत कर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने क्षेत्र के लोगों का जीवन और गृहस्थी बचा ली है। कपरवार के देवेश चंद्र सिंह ने कहा कि यहां सरयू व्यापक रूप से विनाश करती है। मुख्यमंत्री ने गांव को बचाने के लिए धन स्वीकृत कर सबसे बेहतर कार्य किया है। ग्राम प्रधान हनुमान गुप्ता ने कहा कि दस वर्ष से कटान जारी है। सरयू नदी सैकड़ों बीघा जमीन निगल चुकी है। कुरह परसिया, कोलखास गांव का अस्तित्व मिट चुका है।

-------------------

बरहज में राप्ती-घाघरा नदी के किनारे बसे गांव कपरवार से कुर्ह परसिया तक बाढ़ सुरक्षात्मक कार्य प्रस्ताव का टेंडर हो चुका है। दस दिन के अंदर कार्य शुरू हो जाएगा।

नरेन्द्र जड़िया,

अधिशासी अभियंता, बाढ़ खंड

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस