जागरण संवाददाता, बरहज: सरयू और राप्ती नदी के जलस्तर में वृद्धि का क्रम जारी है। सरयू नदी खतरे के निशान से आधा मीटर ऊपर बह रही है। चार दिनों की अपेक्षा जलस्तर में वृद्धि की रफ्तार तेज हुई है। 24 घंटे में 40 सेंटीमीटर जलस्तर बढ़ा है। कपरवार में राप्ती नदी का जलस्तर बढ़ रहा है। बाढ़ की आशंका को लेकर तटवर्ती गांव के लोग भयभीत है। भदिला प्रथम गांव बाढ़ के पानी से घिरा है। यहां लोगों के आवागमन के लिए पूर्व में बंद एक नाव का संचालन शुरू कर दिया गया है, अब दो नाव हो गई है।

गुरुवार को सरयू नदी खतरे के निशान 66.50 मीटर से ऊपर 67 मीटर पर बह रही है। नदी का जलस्तर खतरे के निशान से 50 सेंटीमीटर ऊपर है। जलस्तर में 40 सेंटीमीटर की वृद्धि हुई है। बुधवार को सरयू नदी 66.60 मीटर पर बह रही थी। कपरवार में राप्ती का जलस्तर बढ़ने से संगम नोज पर राप्ती तट पर कटान हो रहा है। सरयू नदी उफान की कगार पर है। नगर के सरयू तट पर पक्की सीढि़यां डूब गई है। उपजिलाधिकारी संजीव कुमार यादव ने बताया कि सरयू नदी का जलस्तर बढ़ने की गति तेज हुई है। भदिला में दो नाव लगाई गई है। बाढ़ चौकियों पर तैनात कर्मचारियों को सतर्क रहने के लिए कहा गया है।

-राप्ती और गोर्रा के जलस्तर में वृद्धि जारी

रुद्रपुर : दोआबा में राप्ती और गोर्रा के जलस्तर में वृद्धि हो रही है। गुरुवार की शाम गेज प्वाइंट भेड़ी के समीप

राप्ती 69.30 मीटर और गोर्रा 69.60 मीटर पर प्रवाहित हो रही थी। बुधवार की शाम राप्ती 69.20 और गोर्रा 69.50 मीटर पर प्रवाहित हो रही थी। दोनों नदियों के जलस्तर में दस सेंमी की बढ़ोतरी दर्ज की गई है।