जागरण संवाददाता, देवरिया: जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन की अध्यक्षता में गूगल मीट के माध्यम से मंगलवार को जिला खेल विकास एवं प्रोत्साहन समिति की बैठक सम्पन्न हुई। डीएम ने कहा कि जिले में खेल गतिविधियों को बढ़ावा दिया जाए। ग्रामीण क्षेत्र में छिपी प्रतिभाओं को निखार कर आगे ले आए और उन्हें आगे बढ़ाने का अवसर प्रदान करें।

कहा कि जो भी संसाधन उपलब्ध है, उसका समुचित उपयोग करें। उप जिलाधिकारियों को निर्देश दिया कि ग्राम पंचायतों में उपलब्ध खेल के मैदानों में यदि अवैध कब्जा या अतिक्रमण हो, तो उसे अतिक्रमण मुक्त कराएं। तहसीलों में खेल प्रोत्साहन समिति की नियमित बैठकों का आयोजन अनिवार्य रूप से किया जाए। तहसील स्तरीय पर भी खेल एवं विकास प्रोत्साहन समिति गठित करें। बरहज तहसील को छोड़कर अन्य सभी तहसीलों की समिति की बैठक की रिपोर्ट दी गयी है। बरहज में भी इस समिति की बैठक कराने का निर्देश उन्होंने दिया। कहा कि ग्राम सभाओं में खेल के मैदान के लिये जमीन आरक्षित रहती है। ऐसी जमीनों को खेल मैदान के रूप में विकसित किया जाए। उन्होंने कहा कि सभी विकास खंडों में दो मिनी स्टेडियम विकसित किए जाए व उप जिलाधिकारी व खेल विकास अधिकारी इसको चिह्नित कर उसका विकास करें। उन्होंने डीसी मनरेगा को निर्देश दिया कि ऐसे खेल मैदानों को चिह्नित कर उनमें मनरेगा से कार्यों को कराएं। उन्होंने कहा कि सभी उप जिलाधिकारी खेल मैदानों के अतिक्रमण की सूची भी तैयार कर उसे प्रस्तुत करेंगे, जिससे कितने कब्जे हटे, उसके बारे में समीक्षा की जा सके।

गूगल मीट में अपर जिलाधिकारी प्रशासन कुवर पंकज द्वारा पिछली कार्यवाही से लेकर बैठक एजेंडा विदुओं की समीक्षा की गई। बैठक में उप जिलाधिकारी सदर सौरभ सिंह, बरहज संजीव यादव, सलेमपुर ओम प्रकाश, भाटपाराररानी ध्रुव शुक्ला, ताइक्वांडो सचिव गिरीश सिंह, रवि वर्मा, बेसिक शिक्षा अधिकारी संतोष राय, जिला ओलंपिक संघ के सदस्य अजय जायसवाल आदि जुडे़ रहे।

Edited By: Jagran