देवरिया, जागरण संवाददाता। बिजली विभाग के अधिशासी अभियंता कार्यालय बरहज में तैनात कार्यकारी सहायक को पांच हजार रुपये रिश्वत लेते रंगेहाथ गिरफ्तार किया गया है। गोरखपुर की एंटी करप्शन टीम ने शुक्रवार की शाम करीब पांच बजे गिरफ्तार करने के बाद कर्मचारी उग्रसेन सिंह के विरुद्ध बरहज थाने में मुकदमा दर्ज कराया है। 

उग्रसेन अप्रेंटिस पूरा करने वाले अभ्यर्थी से प्रमाणपत्र व स्टाइपेंड देने के लिए रिश्वत ले रहा था। गौरीबाजार थानाक्षेत्र के जोगम गांव के रहने वाले अखिलेश कुमार निषाद आइटीआइ करने के बाद अधिशासी अभियंता कार्यालय में एक वर्ष से अप्रेंटिस कर रहे थे। जून में अप्रेंटिसशिप पूरी हो गई। प्रमाणपत्र व स्टाइपेंड के लिए वह कार्यालय का चक्कर लगा रहे थे। 

गोरखपुर के खोराबार थानाक्षेत्र के दोहिया गांव निवासी कर्मचारी उग्रसेन सिंह इसके लिए पांच हजार रुपये मांग रहा था। अखिलेश ने इसकी शिकायत एंटी करप्शन गोरखपुर से की। शुक्रवार को एंटी करप्शन गोरखपुर के प्रभारी निरीक्षक शिव मनोहर यादव टीम के साथ बरहज पहुंचे और तय योजना के अनुसार अखिलेश ने उग्रसेन को जैसे ही रुपये थमाए, उग्रसेन को गिरफ्तार कर लिया। 

भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत मुकदमा

बरहज के थानाध्यक्ष जयशंकर मिश्र ने बताया कि एंटी करप्शन टीम ने बिजली विभाग के कर्मचारी को गिरफ्तार किया है। आरोपित के विरुद्ध भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। एंटी करप्शन टीम ने 30 अगस्त को बरहज में ही लेखपाल अशोक पांडेय को पांच हजार रुपये घूस लेते पकड़ा था।

हड्डी रोग विभाग में भिड़े होमगार्ड, मची अफरा तफरी

देवरिया। महर्षि देवरहा बाबा मेडिकल कालेज के हड्डी रोग विभाग में शुक्रवार को दो होमगार्ड अचानक भिड़ गए। दोनों होमगार्डों के बीच गाली गलौज के बाद मारपीट शुरू हो गई। जिसके चलते रोगियों में अफरा तफरी मच गई। 

हड्डी रोग विभाग में दोपहर में रोगियों को लंबी लाइन लगी थी। डा. गौरव सिंह, डा. अक्षय त्रिपाठी, डा. इरशाद रोगियों को बारी-बारी से देख रहे थे। इस बीच रोगियों की लाइन ठीक कराने के दौरान दो होमगार्डों में किसी बात को लेकर गरमागरम बहस होने लगी। देखते ही देखते दोनों एक दूसरे को गाली देने लगे। कुछ ही देर में दोनों के बीच हाथापाई व मारपीट शुरू हो गई। 

कमांडेंट ने बुलाया कार्यालय

शोर सुन आसपास ड्यूटी में तैनात होमगार्ड बीच बचाव के लिए पहुंचे। डाक्टर भी रोगियों को देखना छोड़ कमरे से बाहर आ गए। इसकी सूचना किसी ने मेडिकल कालेज के प्रधानाचार्य डा. राजेश बरनवाल को दी। 

इसके बाद मेडिकल कालेज के सुरक्षा के नोडल डा. एसएस द्विवेदी को मौके पर भेजा। उन्होंने दोनों होमगार्डों को फटकार लगाई और उनके विभागीय अधिकारी से बात कर कार्रवाई के लिए कहा। कुछ ही देर में कमांडेंट ने फोन कर दोनों होमगार्डों को कार्यालय बुला कर पूछताछ की।

Edited By: Shivam Yadav