जागरण संवाददाता, देवरिया: जिले मे कोरोनारोधी टीका लगवाने की होड़ लग गई है। लोग टीका लगवाने के लिए भोर में ही तीन बजे केंद्रों पर लाइन लगा दे रहे हैं। सुबह से शाम तक लाइन लगाने के बाद भी लोगों को टीके की खुराक नसीब नहीं हो रही है। टीके को लेकर दिन ब दिन संकट बढ़ता जा रहा है। सर्वाधिक परेशानी विदेश जाने वाले लोगों को उठानी पड़ रही है। मेडिकल कालेज से संबद्ध जिला अस्पताल में टीका लगवाने में हुए विलंब को लेकर कई बार भीड़ ने हंगामा व शोर शराबा किया। जिसे पुलिस ने नियंत्रित किया। महिला अस्पताल के अलावा सीएचसी, पीएचसी पर कोरोना टीका लगवाने के लिए लोगों को सर्वाधिक परेशानी उठानी पड़ी। कही 70 तो कही 100 डोज भेजे गए थे जो एक घंटे के अंदर ही समाप्त हो गया। इसके बाद टीका नहीं लगने पर भीड़ ने हंगामा व शोर शराबा किया। जिसे पुलिस ने काफी मुश्किल से संभाला। 73 केंद्रों पर 10860 लोगों को कोरोनारोधी टीका लगाने का लक्ष्य रखा गया था। जिसमें 10995 लोगों को कोरोनारोधी टीका लगाया गया। दो फ्रंटलाइन वर्करों को कोरोनारोधी टीका लगाया गया। 18 वर्ष से 45 वर्ष तक 6439 लोगों को प्रथम डोज व 330 को द्वितीय डोज दिया गया। 45 से 60 वर्ष के लोगों में 1508 को प्रथम व 1270 को द्वितीय डोज दिया गया। 60 वर्ष से उपर 587 को प्रथम व 820 को द्वितीय डोज दिया गया। जिला अस्पताल में विदेश जाने वाले लोगों का अलग से काउंटर बनाया गया है। यहां नोडल डा. आरके श्रीवास्तव पहले उनका पूरा अभिलेख चेक कर रहें हैं, उसके बाद दूसरे काउंटर पर वैक्सीन लगाने की अनुमति दी जा रही है। उसके बाद वैक्सीन लगाई जा रही है। इस प्रक्रिया में काफी समय लग रहा है। जिससे वैक्सीनेशन की गति काफी धीमी रह रही है। लोगों को घंटों अपनी बारी का इंतजार करना पड़ रहा है।

------

महिला अस्पताल में सर्वर डाउन होने से घंटों बाधित रहा टीकाकरण

देवरिया : महिला अस्पताल में दिन में एक बजे अचानक बिजली गुल हो गई। उसके बाद सर्वर काम करना बंद कर दिया। ऐसे में यहां लोगों के टीकाकरण का कार्य प्रभावित रहा। लाइन लगा कर लोग घंटों अपनी बारी की प्रतिक्षा किए। लोग धूप में छाता लगा कर खड़े रहे। सर्वर बाद में ठीक हुआ तो कुछ लोगों का ही टीकाकरण किया जा सका।