देवरिया: शहर के मोतीलाल रोड में रविवार को अतिक्रमण हटाने एसडीएम सदर रामकेश यादव के नेतृत्व में पहुंची टीम से दुकानदारों की झड़प हो गई और दुकानदारों ने मुख्य मार्ग को जाम कर दिया। बवाल बढ़ता देख एसडीएम ने उन्हें समझा-बुझाकर सड़क से हटाया और फिर दो घंटे तक एसडीएम व दुकानदारों के बीच वार्ता चली। एसडीएम ने नाली के पीछे ही दुकानों को रखने की बात कही। अन्यथा बुलडोजर चलाने की बात कही। साथ ही दो दिनों के अंदर अतिक्रमण खाली हो जाने का भी एसडीएम ने चेतावनी दी है। उधर अतिक्रमण हटाओ अभियान के खिलाफ दुकानदारों ने दुकानें भी बंद रखी।

शहर के विभिन्न मार्ग पर अतिक्रमण है, जिसके चलते हर दिन शहर में जाम की समस्या उत्पन्न होती है। एसडीएम सदर रामकेश यादव के नेतृत्व में हर शनिवार व रविवार को अतिक्रमण शहर के मार्गों से हटाया जाता है। रविवार की सुबह एसडीएम नगर पालिका से जेसीबी व कोतवाली से फोर्स मंगाकर मोतीलाल रोड पर अतिक्रमण हटाने चले गए। सब्जी मंडी में हुए अतिक्रमण को अभी हटाना ही शुरू हुआ था कि दुकानदार उग्र हो गए और पुलिसकर्मियों से झड़प करने लगे। इस दौरान पुलिस ने सख्ती भी दिखाई। कुछ दुकानदार तो जेसीबी के सामने खड़ा हो गए। सैकड़ों की संख्या में दुकानदारों के हंगामा करने के चलते पुलिस-प्रशासन भी बैकफुट पर आने लगा। कुछ को पुलिसकर्मियों ने पकड़ लिया और उन्हें गाड़ी की तरफ खींच कर ले जाने लगे। पांच को पुलिस ने हिरासत में ले लिया। यह देख दुकानदारों ने मुख्य मार्ग को जाम कर दिया। इसके बाद एसडीएम ने अतिक्रमण हटवाना रोक कर पहले दुकानदारों को समझा-बुझाकर सड़क से हटाया और बुलाकर बातचीत शुरू की। बातचीत में यह तय हुआ कि दुकानदार नाली के पीछे ही अपनी दुकानें रखेंगे, अगर आगे करते हैं तो जेसीबी लगाकर उसे तोड़ दिया जाएगा। इसके बाद प्रशासन ने मोतीलाल रोड से बातचीत के दौरान तय हुए मानक के अनुरूप अतिक्रमण हटा दिया। एसडीएम रामकेश यादव ने कहा कि किसी भी दशा में अतिक्रमण नहीं होने दिया जाएगा। अगर कोई उल्लंघन करता है तो कार्रवाई की जाएगी।

---

फुटपाथ दुकानदारों का उत्पीड़न बंद करे प्रशासन : अनूप कुमार

जागरण संवाददाता, देवरिया: जिला फुटपाथ ठेला एवं पटरी व्यवसायी सेवा समिति की रविवार को टाउन हाल परिसर में बैठक हुई। जिलाध्यक्ष अनूप कुमार गुप्ता ने कहा कि जिला प्रशासन द्वारा प्रतिदिन फुटपाथ, पटरी दुकानदारों की जीविका के साधनों पर बुलडोजर चलाया जा रहा है। उनको उजाड़ा जा रहा है। जिला प्रशासन अगर फुटपाथ दुकानदारों का उत्पीड़न बंद नहीं करता है तो बड़ा आंदोलन खड़ा किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार बनिया, गरीबों की सरकार कही जाती है। कहा जाता है कि किसी भी गरीब का उत्पीड़न नहीं होने दिया जाएगा, लेकिन दूसरी तरफ अधिकारी गरीबों, फुटपाथ दुकानदारों को प्रतिदिन उजाड़ने में जुटे हुए हैं। उनके ऊपर लाठियां चलाई जा रही हैं। एसडीएम हम लोगों को उजाड़ने की बजाय हम लोगों पर गोली चलवा दें। ना हम रहेंगे और न हमारे सामने रोजी-रोटी का संकट रहेगा। बैठक को जेपी सैनी, राजू गुप्त, मानी शंकर मद्धेशिया, ओपी सैनी, मुन्ना सैनी, प्रह्लाद मद्धेशिया, आनंद सोनकर, अवधेश चौरसिया, लालजी वर्मा, कमलेश कुमार रौनियार, संतोष जायसवाल, गो¨वद रौनियार, विनय जायसवाल, बलवीर राम, शिवचंद्र मद्धेशिया, रानू पांडेय, भिखारी प्रजापति, अमरजीत प्रजापति ने संबोधित किया।

--

Posted By: Jagran