देवरिया: गौरीबाजार थाना क्षेत्र के करहजहां-महुअवां दलित बस्ती में घुसकर एक विशेष वर्ग के लोग तांडव मचाते रहे। तांडव बढ़ता देख लोगों ने पुलिस को सूचना दी। मौके पर पहुंची पुलिस को देख आरोपित दलितों के घर से निकले और आंबेडकर की प्रतिमा की तरफ बढ़ गए। इस दौरान पुलिस के सामने ही अराजकतत्वों ने आंबेडकर प्रतिमा को नुकसान पहुंचा दिया और पुलिस मूकदर्शक बनी रही। अब पुलिस मामले की कहानी बदलने में जुट गई है।

गांव के लोगों की मानें तो युवती से आरोपित ने छेड़खानी की और उसके सीने पर ईंट से प्रहार कर घायल कर दिया, जिससे वह बेहोश हो गई। लोगों ने पुलिस को सूचना दी तो पुलिस मौके पर गुरुवार की रात पहुंची और उसे अस्पताल पहुंचाई। इसके बाद पुलिस आरोपित की तलाश में छापेमारी शुरू की। पुलिस के आने के चलते विशेष वर्ग के लोगों को बुरा लग रहा था, पुलिस इस स्थिति को भांप नहीं सकी और दूसरे दिन देर रात हमला बोल दिया। दलित समुदाय के लोगों का कहना है कि वह हमला करने लगे और हम अपने घरों में कैद होकर रह गए। हम लोगों ने अंदर से ही पुलिस को फोन किया, पुलिस भी तत्परता दिखाई और तीन गाड़ी पुलिस आई, लेकिन पुलिस के सामने भी तांडव जारी रहा। पुलिस का कहना है कि एक ही युवक ने ही मूíत तोड़ी है।

--------------------------

इन पर किया गया है हमला

दलित वर्ग की महिला शीला जब आगे बढ़कर उन्हें रोकने का प्रयास की तो तलवार से उसके हाथ पर प्रहार कर दिया गया, जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गई। इसके अलावा रामायण, जयप्रकाश, धर्मवीर, तेतरी देवी, अशोक समेत सात लोग घायल हो गए। इन्हें पुलिस ने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचाई।

--------------------------

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021