जागरण संवाददाता, चित्रकूट : बारिश थमने के साथ मंदाकिनी की बाढ़ भी उतर गई है। रामघाट में नदी खतरे के निशान से नीचे है। जिससे लोगों ने राहत की सांस ली। बाढ़ ने भीषण तबाही मचाई है। नदी किनारे लगी सब्जी की फसल चौपट हो गई है। तो जल संस्थान के पेयजल आपूर्ति नगर में नहीं हो सकी। वैसे प्रशासन के मुताबिक मंदाकिनी नदी की बाढ़ में किसी प्रकार के माल व जान की हानि नहीं हुई है।

पहाड़ों में भीषण बारिश से कारण रविवार को मंदाकिनी नदी का जल स्तर बढ़कर 130.80 मीटर पहुंच गया था। जो खतरे के निशान 126.50 से 4.30 मीटर अधिक था। रामघाट समेत विभिन्न रिहायशी इलाकों ने पानी भर गया था। जिलाधिकारी अपनी प्रशासनिक टीम के साथ बाढ़ पर नजर रखे थे। जिसका परिणाम रहा कि किसी प्रकार की माल या जन की हानि नहीं हुई। रात में सैकड़ों लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा दिया गया था। हालांकि देर रात से नदी की बाढ़ थम गई थी और सोमवार की सुबह से पानी उतरने लगा था। सिचाई विभाग के मुताबिक दोपहर में नदी करीब पांच मीटर उतर गई है। अब किसी प्रकार का खतरा नहीं है। पहाड़ों में बारिश भी थम चुकी है। धर्मनगरी के सभी मार्ग खुल गए हैं। वैसे रामघाट समेत विभिन्न धार्मिक स्थलों में बाढ़ का मलवा जमा है। जिसको साफ किया जा रहा है। बाढ़ उतने से सैलानियों ने भी राहत की सांस ली है। तमाम लोग बिना घूमे ही घर लौट गए हैं।

तीन सौ किसानों की सब्जी हुई बर्बाद

मंदाकिनी नदी की तलहटी में करीब तीन सौ किसान सब्जी की खेती करते हैं। बाढ़ ने उनको तबाह कर दिया है। खेतों में लगी भिडी, लौकी, करेला आदि की फसलें नष्ट हो गई। जिला उद्यान अधिकारी डा बल्देव प्रसाद ने बताया कि बाढ़ में करीब एक करोड़ रुपये की सब्जी की फसलों को नुकसान हुआ है। जान जोखिम में डाल न करें नदी पार

मानिकपुर : सोमवार को बरदहा का पानी थोड़ा उतरने के बाद चमरौहा घाट में एसडीएम प्रमेश कुमार व तहसीलदार राजेश कुमार पहुंचे और ग्रामीणों को एलाउंस कर जागरूक किया। चमरौंहा, रानीपुर कुबरी, निही चरैया, कल्यानपुर गांव में जाकर ग्रामवासियों से कहा कि बाढ़ की सूचना तत्काल फोन व मोबाइल पर दें। आपातकालीन स्थिति में डायल 112, तहसीलदार 9454415965 व ,8707658297 पर कॉल करें। चमरौहा मार्ग में बरदहा नदी पार करने की फोटो रविवार की शाम इंटरनेट मीडिया में वायरल होने पर एसडीएम ने गंभीरता से लेते हुए ग्रामीणों से रपटा पार न करने की अपील की है। बाढ़ प्रभावित गांवों में स्वास्थ्य परीक्षण

प्रभावित गांव रानीपुर, सकरौहा व मऊगुरदरी में स्वास्थ्य विभाग की टीमें पहुंची। लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण के साथ दवाओं का वितरण किया। स्वास्थ्य कर्मियों ने लोगों को पानी उबाल कर पीने की हिदायत दी।

Edited By: Jagran