जागरण संवाददाता, चित्रकूट : जिले में प्रेम संबंधों के कारण रिश्तों के कत्ल से पुलिस उलझ गई है। लगातार महिलाएं इसका शिकार बन रही हैं। अब तक आधा दर्जन अज्ञात शव मिल चुके हैं, जिनकी शिनाख्त नहीं हो पाई है। महज दस दिन में हुई हत्याओं में ज्यादातर के पीछे ऐसी ही कहानी नजर आ रही है।

धर्म नगरी चित्रकूट में पिछले दस दिन में अचानक हत्या की वारदातें बढ़ी हैं। इससे पुलिस पसीना-पसीना है। वारदातों का सिलसिला चार मई से शुरू हुआ था। मध्यप्रदेश की सीमा से सटे चित्रकूट के सेमरिया जगन्नाथवासी गांव में डडिया तालाब में 30 वर्षीय महिला की धारदार हथियार से गला काट कर हत्या के मामले में उसका धड़ मिला। बाद में सिर भी बरामद हुआ लेकिन पहचान नहीं हो सकी। भरतकूप चौकी के तमरार पुरवा (पन्ना पुरवा) मजरा रसिन निवासी 35 वर्षीय श्रवण यादव पुत्र फौजदार यादव ने आठ मई को अपने घर की अटारी पर कबरापुरवा मजरा गोंड़ा निवासी अपने साढ़ू रामकेश यादव की 20 वर्षीय बेटी गौरा को गोली मारकर खुद खुदकशी कर ली। नौ मई को एक हत्या का राज खुला। पहाड़ी पुलिस ने खेरिया कलवारा के अशोक को पकड़कर इसकी जानकारी हासिल की। पता चला उसने अपनी फुफेरी बहन को यमुना में फेंक कर मार डाला। इसी तरह नौ मई को नांदिन कुर्मियान के मौजा खोहरा रुपौली मोड़ में प्रेमी रामबाबू निषाद ने अपनी प्रेमिका 35 वर्षीय कमला देवी पत्नी चंद्रलाल निवासी रुपौली की गोली मार कर हत्या कर दी थी। रविवार को भरतकूप चौकी के गोंड़ा में फिर एक ट्रक चालक की धारदार हथियार से हत्या कर दी गई। इसी तरह पिछले छह माह के अंतराल में अज्ञात महिलाओं के शव कर्वी, पहाड़ी थानाक्षेत्र में मिल चुके हैं लेकिन शिनाख्त नहीं हो सकी। एसपी मनोज कुमार झा ने बताया कि अज्ञात शवों की शिनाख्त जल्द कराई जाएगी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस