चित्रकूट, जेएनएन। उत्तर प्रदेश से साथ मध्य प्रदेश में आतंक का पर्याय बने डकैत बबुली कोल के रिश्तेदार भी लोकसभा चुनाव के दौरान वसूली के अभियान में लगे हैं। मारकुंडी थानाक्षेत्र के मनगवां गांव में रविवार रात यूपी-एमपी में छह लाख के इनामी डकैत बबुली कोल के गिरोह ने धावा बोला और दरवाजा नहीं खोलने पर डकैत लवलेश ने एक युवक को गोली मार दी। इसके बाद गांव में फायरिंग कर दशहत फैला दी और फिर जंगल की ओर डकैत भाग गए। सुबह पुलिस फोर्स ने घेराबंदी कर गिरोह से मोर्चा लिया, करीब तीन घंटे तक गुरसराय जंगल में गोलियों की तड़ तड़ाहट सुनाई देती रही। देर शाम तक पुलिस की अलग टीम जंगल में कांबिंग करती रहीं।
सतना-मानिकपुर रेलखंड पर टिकरिया रेलवे स्टेशन से करीब चार किलोमीटर दूर पाठा में जंगलों के बीच मनगवां गांव में रविवार देर रात करीब ढाई बजे डकैत बबुली कोल, अपने डकैत साले लवलेश कोल और आधा दर्जन साथियों के साथ पहुंचा। गांव के मोहम्मद हारून उर्फ राजा बाबू के घर का दरवाजा खटखटाया। अंदर से कौन की आवाज पर खुद को लवलेश कोल बताया। मना करने पर दरवाजे के बाहर से कई गोलियां चला दीं। राजा बाबू का 22 वर्षीय पुत्र मोहम्मद आशिफ उर्फ मुट्टू  गोली लगने से घायल हो गया। इसके बाद प्रधान कुसमा देवी समेत दूसरे घरों के बाहर पहुंचकर गिरोह ने हवाई फायरिंग कर दहशत फैलाई। सूचना मिलने पर मारकुंडी थाना प्रभारी मोहम्मद अकरम और एंटी डकैती टीम पहुंची। रात 3.30 बजे घायल युवक को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मानिकपुर में भर्ती कराया। हालत बिगडऩे पर परिजन उसे सतना ले गए। 

सोमवार की सुबह करीब साढ़े सात बजे यूपी के मानिकपुर, मारकुंडी फोर्स के साथ एसपी मनोज कुमार झा, एएसपी बलवंत चौधरी ने करीब तीन किलोमीटर दूर एमपी बॉर्डर पर गुरसराय जंगल में छिपे बबुली कोल गैंग को घेर लिया। दूसरी तरफ से एमपी सतना की बरौंधा, मझगवां थानों की पुलिस आ गई। है। तीन घंटे तक दोनों पुलिस फोर्स व डकैतों के बीच गोली बारी जारी रही। दोपहर में गैंग घने जंगल का फायदा उठा कर बच निकला। पुलिस शाम करीब साढ़े चार बजे तक जंगल में कांबिंग कर करती रही पर कोई हाथ नहीं लगा। एसपी मनोज झा ने बताया कि दोनों तरफ से 30-30 राउंड फायरिंग हुई है। जंगल घना होने के कारण डकैत बच निकले। एमपी पुलिस से भी मदद मांगी गई है, जल्द गैंग का सफाया होगा। 
बीहड़ में घिरा गैंग चुनाव को लेकर बनाने लगा है दबाव
पाठा के बीहड़ों में घिरा बबुली कोल गैंग लोकसभा चुनाव में फिर दबाव बना सकता है। रविवार देर रात की घटना बिना किसी वजह से करने को लेकर ऐसी चर्चाएं शुरू हो गई हैं। पुलिस की उस पर शिकंजा कसने की रणनीति से शायद वह बौखलाया हुआ है। एसपी इससे साफ इन्कार करते हैं। उन्होंने कहा कि गैंग के सदस्य तकरीबन खत्म हो चुके हैं। बबुली के साले समेत चार से पांच लोग बचे हैं। जल्द इनको भी साफ कर दिया जाएगा। यूपी और एमपी पुलिस टीमें लगातार गैंग की घेराबंदी कर फायरिंग कर रही हैं।  

Posted By: Dharmendra Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस