चित्रकूट, जेएनएन। साढ़े छह लाख रुपये के इनामी बबुली कोल और उसके साले 1.80 लाख के इनामी लवलेश कोल के ढेर होने के बाद अब चित्रकूट पुलिस बचे डकैतों के खात्मे में जुटी है। सोमवार शाम मारकुंडी जंगल में पुलिस टीम ने एक लाख रुपये के इनामी संजय कोल को मुठभेड़ में गिरफ्तार कर लिया।

गैंग सरगना बबुली व लवलेश की मौत के बाद एसपी चित्रकूट मनोज कुमार झा के नेतृत्व में पुलिस टीमें लगातार जंगल में कांबिंग कर रही हैं। पुलिस एक लाख रुपये के इनामी सोहन कोल को जेल भेजने के बाद उसे रिमांड पर लेकर कई राज उगलवा चुकी है। सोमवार को मारकुंडी के गुरसराय के जंगल में कांबिंग के दौरान बबुली कोल गैंग के सक्रिय सदस्य संजय कोल से भी मुठभेड़ हो गई। दोनों ओर से गोलियां चलीं। पुलिस ने डकैत को घेरकर बंदी बना लिया। उसके पास से दोनाली बंदूक, दर्जनों कारतूस, धारकुंडी मध्यप्रदेश के किसान अवधेश द्विवेदी के अपहरण में वसूली फिरौती की रकम बरामद हुई है।

पुलिस सूत्रों के मुताबिक एंटी डकैती टीम व स्थानीय पुलिस को यह सफलता मिली है। पुलिस संजय से बबुली और लवलेश प्रकरण को लेकर भी कड़ी पूछताछ कर रही है। इससे मुठभेड़ या गैंगवार के मसले पर और रहस्य खुल सकते हैं। एसपी मनोज झा ने बताया कि संजय कोल टिकरिया, मारकुंडी का रहने वाला है। उसे मुठभेड़ में दबोचा गया है।

बीहड़ से डकैतों का खात्मा

अब पाठा के जंगलों से डकैतों का खात्मा हो चुका है। पांच दशक में पहली बार ऐसा हुआ है। बबुली व लवलेश के मारे जाने के बाद सोहन कोल, लाली कोल, नवल शिवहरे दबोचे जा चुके हैं। बीहड़ में अब तक बचकर घूम रहे संजय कोल को भी पुलिस ने सोमवार को पकड़ लिया। इसे एसटीएफ का भरोसेमंद मोहरा भी बताया जा रहा था। अब इससे काफी राज सामने आएंगे।

Posted By: Umesh Tiwari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस