चित्रकूट [शिवा अवस्थी]। चित्रकूट, उत्तर प्रदेश की तहसील के रैपुरा गांव के तीस युवा आइएएस, आइपीएस, पीसीएस और पीपीएस अफसर बने। हर घर में कोई न कोई सरकारी कर्मचारी-अधिकारी है। इस गांव की इस खासियत के पीछे भी एक खास किरदार है, जो अब भी बागवान बन मेधा की सुंदर फुलवारी को सींच रहा है। गांव के ही निवासी पूर्व प्रधानाचार्य डॉ. महेंद्र प्रसाद सिंह वह खास शख्स हैं, जिनकी प्रेरणा और प्रयासों से ही गांव के युवा ऊंचा मुकाम पा रहे हैं।

डॉ. सिंह पहले राजकीय इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य के दायित्व के साथ इतिहास विषय के अपने अनुभव से छात्रों के मददगार बने और सेवानिवृत्त होने के बाद एक ट्रस्ट बनाकर गांव के बच्चों को भविष्य गढ़ने में सहायता कर रहे हैं। ट्रस्ट का नाम ग्रामोत्थान उनके संकल्प व उद्देश्य को स्पष्ट करता है। वर्ष 1993 में जालौन में राजकीय इंटर कालेज से सेवानिवृत्त होने के बाद गांव लौटे तो युवाओं का भविष्य निखारने में जुट गए। इंटरमीडिएट पास युवाओं को इतिहास विषय के टिप्स दिए। इसके बाद वर्ष 2008 में ग्रामोत्थान ट्रस्ट का गठन कर सरकारी नौकरी पाने वालों को जोड़ लिया। इससे कारवां बढ़ता चला गया।

गांव में प्रत्येक वर्ष दशहरा के दिन दंगल व मेधा सम्मान समारोह का आयोजन करते हैं। जिसमें इनका ट्रस्ट किसी भी कक्षा में पहला, दूसरा व तीसरा स्थान पाने वाले गांव के बच्चों का सम्मान कर उन्हें प्रोत्साहित करता है। इंजीनियरिंग, मेडिकल प्रवेश परीक्षा की तैयारी और प्रवेश में आर्थिक दिक्कतों पर मदद भी मुहैया कराता है। अफसर से लेकर कर्मचारी की नौकरी वाले दशहरा में जरूर पहुंचते गांव।

डॉ. महेंद्र प्रसाद ने अब ट्रस्ट की तरफ से मेधा स्मारिका का प्रकाशन शुरू किया है। इसमें गांव से निकले आइएएस-आइपीएस, प्रोफेसर, डॉक्टरों व इंजीनियरों को जोड़ा गया है। प्रतिवर्ष स्मारिका में मेधावियों की तस्वीरें छपेंगी। वह कहते हैं कि इससे युवाओं में पढ़ाई की ललक जगने से नए कीर्तिमान बनेंगे।

Posted By: Kamal Verma