जागरण संवाददाता, बांदा : सिंचाई विभाग का निलंबित जेई अभी 14 दिसंबर तक जेल में रहेगा। मंगलवार को उसकी न्यायिक हिरासत की अवधि बढ़ाई गई है। उधर, सीबीआइ टीम ने न्यायालय में केस डायरी भी दाखिल की है। जेई को मंडल कारागार स्थित अस्पताल में आइसोलेशन कक्ष में रखे जाने के कारण सुनवाई वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से हुई।

मंगलवार को निलंबित जेई की अपर सत्र न्यायधीश पंचम मोहम्मद रिजवान अहमद की अदालत में रिमांड पेशी हुई। सीबीआइ के डिप्टी एसपी अमित कुमार समेत चार सदस्यीय टीम 12 बजकर सात मिनट पर न्यायालय पहुंची। इसी आधार पर अब अदालत की ओर से कार्रवाई होगी। न्यायाधीश ने 14 दिसंबर अगली सुनवाई की तिथि भी नियत की है। अभियोजन पक्ष के सहायक शासकीय अधिवक्ता मनोज दीक्षित ने बताया कि आरोपित जेई के मामले में जमानत संबंधी अर्जी आने पर विधिक प्रवाधान और साक्ष्यों के आधार पर जवाब दिया जाएगा। विपक्षी के अधिवक्ता की ओर से न्यायालय में अब जमानत अर्जी पेश की जा सकती है। वहीं, आरोपित जेई के अधिवक्ता देवदत्त त्रिपाठी ने बताया कि रिमांड के दौरान सीबीआइ की ओर से पेश किए साक्ष्य आजीवन या 20 वर्ष की सजा के लिए पर्याप्त नहीं हैं। जमानत अर्जी लगाने में जल्दबाजी नहीं करेंगे। 14 दिन की न्यायिक हिरासत अवधि पूरी होने के बाद ही जमानत अर्जी दाखिल करेंगे।

---------

टाइम लाइनर

दोपहर 12:07 बजे : सीबीआइ टीम की स्कार्पियो कचहरी परिसर में रुकी।

12 : 08 बजे। डिप्टी एसपी समेत चार सदस्यीय टीम न्यायालय पहुंची।

12 :15 बजे : रिमांड पेशी से संबंधित पत्रावली की दाखिल ।

01:00 बजे : जेल से वीडियो कांफ्रेंसिग से सुनवाई शुरू ।

01:15 बजे : वीडियो कांफ्रेंसिग हाल से आरोपित जेई के अधिवक्ता निकले बाहर।

01:40 बजे : सीबीआइ टीम अगली तारीख लेने व केस की पत्रावलियों की करती रही जानकारी।

01:43 बजे : सीबीआइ टीम कचहरी परिसर से हुई रवाना।

----

लॉकडाउन में भी जेई था संक्रमित, दरवाजे पर चस्पा मिली स्लिप

बांदा : निलंबित जेई के कोरोना संक्रमित होने को लेकर बार-बार सवाल खड़े हो रहे हैं। सीबीआइ को उसके चित्रकूट के कर्वी स्थित किराये के घर के बाहर संक्रमित होने की स्लिप भी चस्पा मिली है। उसमें उसके लॉकडाउन के समय अप्रैल में भी कोरोना संक्रमित होने का जिक्र है। इसलिए सीबीआइ टीम पैनी निगाह रखे हुए हैं। सीबीआइ टीम ने 10 नवंबर को जेई की कोरोना जांच कराई थी, जिसमें वह निगेटिव मिला था। 20 नवंबर को जेल में हुई कोरोना जांच में भी वह निगेटिव आया। इसके बाद अचानक 23 नवंबर को उसके जेल में पॉजिटिव होने की बात पता चली थी। अब इसकी सच्चाई भी खंगाली जा रही है।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप