जागरण संवाददाता, चकिया (चंदौली) : बिजली की अघोषित कटौती रोकने के लिए शासन ने नई व्यवस्था की है। इससे उपभोक्ताओं को गर्मी में जहां भरपूर बिजली मिलेगी, वहीं विभाग के अभियंताओं की मनमानी भी रुकेगी। व्यवस्था के तहत अघोषित बिजली कटौती की जानकारी सांसद व क्षेत्रीय विधायक को होगी। इसके साथ ही बड़े फाल्ट की रिपोर्ट डीएम व एसपी को देकर अभियंता उसे दुरुस्त कराएंगे। मनमानी पर अब जवाबदेही तय होगी। शासन ने उपभोक्ताओं को कटौती से निजात दिलाने की दिशा में यह निर्णय लिया है। इसके लिए अधिशासी व अधीक्षण अभियंताओं को निर्देश दिए गए हैं।

दरअसल, गर्मी में इस बार बिजली की किल्लत उपभोक्ताओं के पसीने न छुड़ाए, इसके लिए व्यवस्था को दुरुस्त करने में महकमा जुटा है। जिले के उपकेंद्रों को प्रोटेक्शन टेस्टिग (सुरक्षात्मक जांच) के साथ ठीक किया जा रहा है। इसके साथ ही लाइनलॉस कम करने के लिए चोरी के खिलाफ अभियान चलाया जा रहा है। उपकेंद्रों की पुरानी मशीनें बदली जा रही हैं। यहां उच्च क्षमता वाले ट्रांसफार्मर लगाने की योजना को मूर्तरूप दिया जा रहा है। विभाग के मुताबिक, लाइनलॉस कम होने से सूबे में बिजली की उपलब्धता बढ़ी है। इससे उम्मीद है कि इस बार की गर्मी में बिजली की किल्लत उपभोक्ताओं का पसीना नहीं छुड़ाएगी। लखनऊ मुख्यालय से बिजली की अघोषित कटौती, किल्लत होने पर उसकी रिपोर्ट सांसद और क्षेत्रीय विधायकों को दी जाएगी। ट्रांसफार्मर को छोड़कर किसी भी फाल्ट को दो घंटे में दुरुस्त होगा। व्यवस्था से उपभोक्ताओं को सहूलियत होगी।

--------------------------

गर्मी में दो फीसद बढ़ेगी आपूर्ति,

मिलेगी राहत

पूर्वांचल के जिलों में अनपरा व उससे जुड़ी इकाइयों से बिजली आपूर्ति होती है। जिले में साहूपुरी, चंदौली व चकिया बड़े उपकेंद्र हैं। नौगढ़, चकरघट्टा, शिकारगंज को छोड़ दें तो अन्य उपकेंद्रों को यहां से आपूर्ति दी जाती है। गर्मी के दिनों में दो फीसद आपूर्ति बढ़ जाएगी। लाइनलॉस कम होने और आपूर्ति में बढ़ोतरी से उपभोक्ताओं को राहत मिलेगी।

--------------------------

ग्रामीण अंचलों में चुनौती रहेगी आपूर्ति

ग्रामीण क्षेत्रों में गर्मी के दिनों में बिजली की आपूर्ति शेड्यूल पर उपलब्ध कराने की चुनौती रहेगी। क्योंकि यहां अभी भी लाइन लॉस करीब 45 फीसद से ज्यादा है। तमाम प्रयासों के बावजूद बिजली चोरी नहीं रुकी। यहां आपूर्ति जर्जर खंभों व ढीले तारों के सहारे की जा रही है। लोकल फाल्ट की वजह से अक्सर आपूर्ति बाधित रहती है। हालांकि विभाग का प्रयास है कि ग्रामीण क्षेत्रों में एक तय शेड्यूल पर बिजली दी जाए।

--------------------------

वर्जन..

गर्मी से पहले बिजली की व्यवस्था दुरुस्त कराई जा रही है। अभी तक शहर और तहसीलों में आपूर्ति बेहतर रही है। लाइन लॉस भी कम हुआ है। गर्मी में बिजली की दिक्कत न हो, इसके लिए तैयारी चल रही है।

- एके शुक्ल, अधिशासी अभियंता।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस