जागरण संवाददाता, चंदौली : सदर विकास खंड के नर¨सहपुर खुर्द के राजस्व गांव जसौली में बुधवार को सफाईकर्मियों को देख ग्रामीण आपा खो बैठे। लाजिमी भी रहा कि चार वर्ष से गांव में नहीं लगा था झाड़ू। ग्रामीणों ने कई बार सफाई के लिए गुहार लगाई। सीएम का दौरा लगा तो हुक्मरानों की तंद्रा टूट पाई है। निरीक्षण वाले गांव ही नहीं कई गांवों का कायाकल्प किया जा रहा है। क्या पता मुख्यमंत्री किस गांव का रुख कर लें। इतना तो तय है कि ज्यादा दूर नहीं पास पड़ोस के गावों में ही जाएंगे। इसी के ²ष्टिगत सफाइकर्मी पहुंचे तो आक्रोश भड़क उठा। गुस्साए लोग सफाईकर्मियों से झाड़ू छीन कर प्रदर्शन किया। अधिकारियों ने समझाने का प्रयास किया लेकिन वे नहीं माने और सफाई कर्मी वापस लौट गए।

ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि गांव में विकास कार्य कोसों दूर है। गांव के गरीबों को सरकार से कोई सुविधा नहीं मिल रही है। सफाई कर्मी का तो पता ही नहीं चलता है। इससे गांव की नाली पूरी तरह से जाम है। गांव के लोग ही चार वर्षों से सफाई कर रहे हैं। इसकी शिकायत कई बार अधिकारियों व ग्राम प्रधान से की गई, लेकिन कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। इसी ग्राम पंचायत का हिस्सा नर¨सहपुर खुर्द है जहां मुख्यमंत्री आ रहे। वहां सभी विकास कार्य हो रहे हैं। जसौली में कोई विकास कार्य नहीं हो रहा है। इससे साफ जाहिर है कि गांव के साथ भेदभाव किया जा रहा है। रोज सफाई नहीं कराई जाती तो आज सफाई कराने की क्या जरूरत है?

Posted By: Jagran