जासं, पीडीडीयू नगर (चंदौली) : ऑनलाइन खरीदारी तेजी से बढ़ रही है लेकिन इसका असर बाजार पर भी पड़ रहा है। ऑनलाइन के प्रति लोगों का रुझान बढ़ने से बाजार का क्रेज फीका हो गया है। सामानों को ऑनलाइन बेचने के लिए छोटी-बड़ी हर तरह की कंपनियां अब मैदान में हैं। इन कंपनियों का सबसे बड़ा दांव समय समय पर ऑफर या मेगा आफर है। इसमें लोगों को काफी कम कीमतों पर ब्रांडेड सामान मिल जाता है। जब यह बात दूसरों को पता चलती है तो उनके मन में भी ऑनलाइन खरीदारी की चाहत पैदा होती है।

इस बार दीवाली की खरीदारी को लेकर लोगों में उत्साह है। हां इतना जरुर है कि आनलाइन खरीदारी की वजह से बाजारों की रौनक फीकी हो गई है। पहले लोग दुकान पर जाते थे, सामान का मोल भाव करते थे और सामान खरीद लेते थे लेकिन इधर जब से सब चीजें ऑनलाइन उपलब्ध हैं, लोग दुकान पर तो जाते हैं, मनचाही चीज का दाम पूछते हैं फिर उसकी तुलना आनलाइन बिक्री करने वाले कंपनियों के वेब साइट पर जाकर करते हैं।

गारंटी, वारंटी व रिपेयरिग की सहूलियत

दुकानदारों का अब तक यही रटा-रटाया फार्मूला होता था कि ऑनलाइन सामान खरीदेंगे तो रिपेयर कहां कराएंगे। गारंटी व वारंटी का लाभ कैसे लेंगे। कुछ दिनों तक यह भ्रम जाल चला। पर जैसे जैसे लोगों को पता चला कि कंपनियों के सर्विस सेंटर में सब कुछ आसानी से हो जाएगा। ऑनलाइन बिक्री करने वाली कुछ कंपनियां भी रिपेयरिग के लिए होम सर्विस शुरू कर दी हैं। ऑनलाइन खरीदारी से समय की बचत

ऑनलाइन खरीदारी करने वाले लोगों के अनुसार पहले सामान खरीदने के लिए अलग-अलग दुकानों पर जाना पड़ता था, वहां सामान पसंद नहीं आया तो किसी और दुकान पर। इसमें काफी समय लगता था। इसके अलावा कई जगह दुकानदार कैश काउंटर पर'एक दाम'लिखकर प्रिटेड प्राइस वसूलते हैं। इसमें काफी घाटा होता है। जबकि देखा जाए तो किसी भी ऑनलाइन ट्रैडर कंपनी में न्यूनतम 10 से 15 प्रतिशत और अधिकतम आफर के अनुसार छूट रहता ही है। ये 10 से 15 प्रतिशत की बचत समय के साथ बोनस के रूप में होता है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस