जागरण संवाददाता, चंदौली : जिले में सोमवार की रात एक साथ आठ कोरोना संक्रमित मिलने से खलबली मच गई है। संक्रमितों के गांव व मोहल्लों को हॉट स्पॉट घोषित करते हुए सील कर दिया गया है। मुख्यालय पर पुरानी बाजार व गंगा रोड इलाके को 21 दिन के लिए बैरिकेडिग कर सील कर दिया गया। वहीं नियामताबाद ब्लाक के गौरी, पंचफेड़वा, बरहनी के भैसाखुर्द, एलहियां, अरंगी, चहनियां के समूदपुर गांवों को भी कंटेनमेंट जोन में तब्दील कर दिया गया है। सीडीओ व एसडीएम समेत अधिकारियों ने हॉट स्पॉट इलाकों का जायजा लिया। मातहतों को आवश्यक निर्देश दिए। वहीं लोगों से घर में रहने की अपील की।

जिले में कोरोना का ग्राफ दिनोंदिन बढ़ता जा रहा है। नित नए मरीज सामने आ रहे हैं। सोमवार को एक साथ आठ लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। इसमें चहनियां के समूदपुर गांव में हरियाणा के गुरुग्राम से आए पति-पत्नी भी शामिल हैं। सभी मरीजों को वाराणसी स्थित दीनदयाल उपाध्याय मंडलीय चिकित्सालय में भर्ती कराया गया है। वहीं गांवों व मोहल्लों की बैरिकेडिग कर सील कर दिया गया है। हॉट स्पॉट इलाकों में पुलिस का पहरा लगा दिया गया है। वहीं लोगों से घरों में रहने की अपील की गई है। संक्रमितों के संपर्क में आए लोगों को प्रशासन चिह्नित कर रहा है। ऐसे दर्जन भर लोगों की मंगलवार को जिला अस्पताल में सैंपलिग कराई गई। मुख्य विकास अधिकारी डा. एके श्रीवास्तव ने संक्रमितों के गांवों का मंगलवार को निरीक्षण किया। इस दौरान गांवों के सैनिटाइजेशन के लिए सफाईकर्मियों की टीम गठित कराई। वहीं ग्रामीणों की थर्मल स्कैनिग के लिए चिकित्सकों को जिम्मेदारी सौंपी गई है। प्रशासन ने लाउडस्पीकर के लिए जरिए घोषणा कराकर ग्रामीणों व मोहल्लावासियों से घर में रहने की अपील की। सीडीओ ने कहा, हॉट स्पॉट गांवों में होम डिलेवरी की व्यवस्था कराई जाएगी। इसके लिए कोटेदारों व दुकानदारों को लगाया जाएगा। फोन करने पर संबंधित दुकानदार व कोटेदार राशन व दैनिक उपयोग की वस्तुएं घर तक पहुंचाएंगे। एसडीएम कुमार हर्ष, विजयनारायण सिंह, डीपीआरओ ब्रह्मचारी दुबे आदि मौजूद रहे। मुख्यालय पर विलंब से जागा प्रशासन

गांवों के बाद अब नगरों में भी संक्रमण फैलने लगा है। पीडीडीयू नगर, सैयदराजा के बाद सदर नगर पंचायत में भी कोरोना संक्रमित मिलने से लोग सशंकित हो उठे हैं। लेकिन जिला प्रशासन की सुस्ती बरकरार रही। मंगलवार की शाम नगर के पुरानी बाजार व गंगा रोड इलाके को सील किया गया। इसके पूर्व हॉट स्पॉट इलाके में दुकानें खुली रहीं और लोगों का आवागमन होता रहा।