मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जागरण संवाददाता, चंदौली : भारतीय किसान संघ का प्रतिनिधिमंडल मंगलवार को कलेक्ट्रेट में अपर जिलाधिकारी बच्चालाल से मिला। पत्रक सौंप आग से फसल नुकसान होने पर उचित मुआवजा देने, गेहूं खरीद को पर्याप्त संख्या में क्रय केंद्र खोलने व धान बेचने वाले किसानों के बकाए का भुगतान कराने की मांग की। चेताया कि यदि मांगों पर अमल नहीं किया गया तो शासन स्तर पर शिकायत की जाएगी। एडीएम ने मांगों पर विचार करने का भरोसा दिलाया।

सदस्यों ने कहा नियामताबाद के पांडेयपुर, कबीरपुर, कठौरी, सदर तहसील के सिकरी, चहनियां के महरखां, धानापुर के हिगुतरगढ़ में गेहूं क्रय केंद्र नहीं खोले गए हैं। ऐसे में किसानों को अपनी उपज बेचने में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। आए दिन अगलगी की घटनाओं से किसानों की सैकड़ों एकड़ फसल नष्ट हो गई। पीड़ित किसानों को नुकसान का आंकलन कर उचित मुआवजा दिया जाए। ताकि गुजर-बसर करने में परेशानी न होने पाए। बोले, क्रय केंद्रों पर धान बेचने वाले किसानों को अभी तक धनराशि नहीं मिली है। किसान पैसे के लिए दफ्तरों के चक्कर काट रहे हैं। लेकिन मायूसी हाथ लग रही। प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत सीमांत, लघु के साथ ही बड़े किसानों को इसका लाभ देने की वकालत की। राजकीय बीज गोदामों से बीज खरीदने वाले किसानों के खाते में अभी तक अनुदान नहीं भेजा गया। इससे किसानों में रोष व्याप्त है। संतोष मिश्र, गोरखनाथ सिंह, अनंत नारायण सिंह, अखिलेश सिंह, रामजनम मौर्य, मनोज कुमार सिंह, नरेंद्र तिवारी, शैलेंद्र पांडेय मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप