जागरण संवाददाता, चंदौली : जिला प्रशासन को लॉकडाउन के दौरान कोरोना को लेकर आने वाली ऑनलाइन शिकायतों को अब एक घंटे के अंदर निस्तारित कराना होगा। शासन ने इसको लेकर फरमान जारी कर दिया है। शिकायतें आइजीआरएस अनुभाग व कंट्रोल रूम में आएंगी। संबंधित अधिकारियों को निर्देशित कर निस्तारण कराने के बाद शासन को रिपोर्ट भेजी जाएगी। जिम्मेदारी के निर्वहन में लापरवाही बरतने वाले अधिकारी-कर्मचारी किसी भी हाल में बख्शे नहीं जाएंगे।

कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए जारी लॉकडाउन ने लोगों के लिए तमाम मुश्किलें पैदा कर दी हैं। लोग आपातकाल जैसे हालात का सामना करने को विवश हैं। सरकार ने जरूरतमंदों की मदद के लिए खजाना खोल दिया है। वहीं समस्याओं के निस्तारण को अफसर-कर्मचारियों की फौज को फील्ड में उतार दिया गया है। शासन ने इस दौरान आने वाली शिकायतों को एक घंटे के अंदर निस्तारित करने के निर्देश दिए हैं। ऐसे में प्रशासनिक अमले को अब सक्रियता बरतनी होगी, वरना कार्रवाई तय है। शिकायतों के निस्तारण में चंदौली अव्वल

कोरोना को लेकर आने वाली ऑनलाइन शिकायतों के निस्तारण में चंदौली वाराणसी मंडल में अव्वल है। चंदौली में आई समस्त 141 शिकायतों का निस्तारण कर दिया गया। वहीं गाजीपुर में 266 शिकायतें आई। इसमें 185 निस्तारित हुई, जबकि 81 लंबित हैं। जौनपुर में आई 392 शिकायतों में 148 निस्तारित और 244 लंबित हैं। वाराणसी में 313 शिकायतें आई। मात्र 57 शिकायतों का निस्तारण किया गया। 256 शिकायतें अभी तक लंबित हैं। इसी तरह प्रदेश के अन्य बड़े जिलों की भी स्थिति है। चेयरमैन व ईओ के नंबर पर करें फोन

लॉकडाउन के दौरान लोगों को त्वरित राहत पहुंचाने के लिए नगर पंचायत प्रशासन की ओर से कंट्रोल रूम की स्थापना कराई गई है। इसका नंबर 05412-260141 है। किसी तरह की परेशानी होने पर लोग तत्काल इस नंबर पर फोन कर सूचित कर सकते हैं। इसके अलावा चेयरमैन रविद्रनाथ के मोबाइल नंबर 9415872394, ईओ राजेंद्र प्रसाद 9451056331, लिपिक इकबाल अहमद 9918697312 व सफाई नायक रतन कुमार पाठक के नंबर 9532236670 पर फोन कर अपनी समस्या बता सकते हैं। तत्काल राहत पहुंचाई जाएगी। शासन स्तर से एक घंटे के अंदर कोरोना से संबंधित ऑनलाइन शिकायतों के निस्तारण का निर्देश दिया गया है। इसके लिए अधिकारियों-कर्मचारियों को लगाया जाएगा। अफसर शिकायतों का निस्तारण कराने के बाद रिपोर्ट भेजकर अवगत कराएंगे, ताकि शासन को रिपोर्ट भेजी जा सके। इसमें लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। लापरवाही बरतने वाले अफसर व कर्मी नपेंगे।

-डा. एके श्रीवास्तव, सीडीओ।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस