चंदौली, जागरण संवाददाता। उपजिलाधिकारी सदर अजय कुमार मिश्रा ने मंगलवार को प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र बरहनी का जायजा लिया। इस दौरान दवा कक्ष व अस्पताल के बाहर तीन स्वास्थ्यकर्मी सोते मिले। इस पर उन्होंने नाराजगी जताई और प्रभारी चिकित्साधिकारी डा. शैलेंद्र कुमार को स्पष्टीकरण तलब करने का निर्देश दिया। 

एसडीएम के आने की जानकारी देने पर सो रहे स्वास्थ्यकर्मियों की तंद्र टूटी तो वे एसडीएम के समक्ष क्षमा कर देने के लिए गिड़गिड़ाने लगे। एसडीएम ने सख्त लहजे में कहा कि स्वास्थ्य सेवा के लिए अस्पताल आने वाले मरीजों को बेहतर सुविधा दी जाए। इसमें चिकित्सक व कर्मचारी लापरवाही न बरतें। 

पेड़ के नीचे सो रहे थे कर्मचारी

दरअसल, सुबह दस बजे स्वास्थ्य सेवाओं की पड़ताल करने के लिए सदर एसडीएम प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में पहुंच गए। उनके अचानक आने से चिकित्सक व स्वास्थ्यकर्मी अपने अपने पटल पर व्यवस्थित होने लगे। तभी उनकी नजर अस्पताल के पास पेड़ के पास पड़ी, यहां सो रहे लोगों के बारे में जानकारी ली तो पता चला कि अस्पताल के कर्मी हैं। 

दवा कक्ष में भी आराम फरमाते दिखा कर्मी

इस पर उनकी भौंहें तन गई और प्रभारी चिकित्साधिकारी को बाहर बुलाकर उन कर्मचारियों की पहचान कराई। स्वास्थ्यकर्मियों के आराम करने का सिलसिला यहीं नहीं थमा, बल्कि एसडीएम ने दवा कक्ष में आराम फरमाते हुए एक कर्मचारी को देख लिया।

इसके बाद उन्होंने प्रभारी चिकित्साधिकारी की कमजोर मानीटरिंग की रिपोर्ट जिलाधिकारी को भेजने की बात कही। आइसीटीसी रूम, ओपीडी, लेबर रूम, दवा सहित स्वास्थ्यकर्मियों से प्रसव का हाल जाना व जानकारी ली। 

इमरजेंसी ड्यूटी पर हर हाल में रहे उपस्थित

एसडीएम ने दवाइयों की उपलब्धता, अस्पताल में आने वाले टीबी के मरीजों, अंधता निवारण, टीकाकरण, क्षेत्र के एएनएम सेंटरों, बाल स्वास्थ्य के तहत बच्चों के उपचार व गंभीर बीमारी होने पर रेफर सहित अन्य व्यवस्थाओं का भी हाल जाना। उन्होंने स्वास्थ्यकर्मियों को रात्रि में इमरजेंसी ड्यूटी पर हर हाल में उपस्थित रहने का दिशा निर्देश दिया।

Edited By: Pradeep Kumar Upadhyay

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट