जागरण संवाददाता, पीडीडीयू नगर (चंदौली): अखिल भारतीय अधिवक्ता परिषद ने बुधवार को पराहूपुर स्थित कैंप कार्यालय पर संगोष्ठी का आयोजन किया गया। इसमें अंधाधुंध पेड़ों की कटाई पर गहरी ¨चता व्यक्त की गई। इस बात पर मंथन भी किया गया कि ऐसी नीति से पर्यावरण संरक्षण को करारा झटका लगा रहा है। वहां उपस्थित लोगों ने अभियान चलाकर पौधरोपण का संकल्प लिया।

सिविल बार एसोसिएशन के वरिष्ठ उपाध्यक्ष व पूर्व महामंत्री वीरेंद्र प्रताप ¨सह दाढ़ी ने कहा कि पूरी दुनिया पर्यावरण-प्रदूषण के भय से त्रस्त है। यह ¨चता नई नहीं पहले भी थी। उस समय ऋषि मुनियों ने ¨चतन कर समाधान भी दिया था।

उन्होंने पर्यावरण के हानिकारक प्रत्येक काम को आसुरी प्रवृत्ति और हितकर को दैवी प्रवृत्ति माना। अदूरदर्शिता के कारण पृथ्वी पर रहने वालों के सामने पर्यावरण प्रदूषण एक विकराल रूप धारण कर रहा है। जनता व सरकार का दायित्व है कि अधिकाधिक पौध लगाकर वातावरण को दूषित होने से बचाएं। ऐसा करके अपना ही नहीं सर्वजन हितकारी कल्याण का काम करेंगे। संगोष्ठी में विजय बहादुर ¨सह, तारकेश्वर ¨सह, हरेंद्र, रवि प्रकाश ¨सह, राकेश ¨सह, मनीष तिवारी, रामराज यादव, कांता प्रसाद यादव, अशोक पांडेय, संतोष, मुन्ना, सुनीता चौधरी आदि उपस्थित थे।

Posted By: Jagran