जासं, नौगढ़ (चन्दौली) : तहसील के एक कर्मचारी के दु‌र्व्यवहार से क्षुब्ध बीएलओ (शिक्षामित्रों) सोमवार को मतदाता पुनरीक्षण कार्यक्रम कार्य का बहिष्कार कर धरने पर बैठ गए। इससे तहसील प्रशासन सकते में आ गया।

तहसील कार्यालय पर पत्रक देने पहुंचे बीएलओ के साथ तहसील के लिपिक (माल बाबू) से नोकझोंक के बाद मामला बिगड़ गया। इससे नाराज बीएलओ तहसील परिसर में धरने पर बैठ प्रदर्शन करने लगे। पंचायत चुनाव को लेकर निर्वाचन आयोग द्वारा मतदाता सूची के पुनरीक्षण का कार्य किया जा रहा है। शिक्षामित्रों का कहना है कि उनकी ड्यूटी समीपवर्ती ग्राम पंचायतों में लगाई गई है। ऐसे में उन पर पक्षपात का आरोप लग सकता है। इसके मद्देनजर ड्यूटी बदलते हुए अन्य स्थान पर लगाया जाय। मांगों से संबंधित पत्रक देने बीएलओ जब तहसील में पहुंचे, तो वहां कोई सक्षम अधिकारी नहीं मिला। बीएलओ संबंधित लिपिक को पत्रक देने का प्रयास किए। आरोप है कि लिपिक ने बीएलओ के साथ दु‌र्व्यवहार किया। इससे नाराज बीएलओ हंगामा पर उतर आए। प्रदर्शनकारियों ने माल बाबू के विरुद्ध कार्रवाई की मांग करते हुए शासन प्रशासन को हस्ताक्षर युक्त पत्रक भेजने का निर्णय लिया। चेतावनी दी कि यदि मांगों पर ध्यान नहीं दिया गया तो बीएलओ सामूहिक बहिष्कार का निर्णय करने को बाध्य होंगे। संतोष कुमार, शिवानंद, कैलाश यादव, जितेंद्र कुमार, राजेश कुमार, कन्हैया लाल, राम लाल,राम भवन सिंह आदि शामिल थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस