जासं,सकलडीहा (चंदौली): कोरोना महामारी के बढ़ते प्रभाव को लेकर तहसील के अधिवक्ताओं ने बुधवार को चिता जताते हुए परिसर में नियमित सफाई व अलाव जलाए जाने सहित वचुर्वल कोट चलाने की मांग का मुद्दा उठाया। अधिवक्ताओं ने चेताया कि समस्याओं का समाधान न होने पर आंदोलन को बाध्य होंगे। अधिवक्ताओं ने आरोप लगाया कि ठंड और भयंकर शीत लहर के बाद भी तहसील परिसर में अलाव के नाम पर खानापूर्ति की जा रही है। यही नहीं कोरोना महामारी का लगातार ग्राफ बढ़ रहा है। इसके बाद भी तहसील परिसर में साफ-सफाई तो दूर कोरोना गाइड लाइन का पालन भी नहीं हो रहा है। सभी कार्यालयों में कोरोना गाइड लाइन का खुलेआम उल्लंधन हो रहा है। इसके बाद भी तहसील प्रशासन मौन साधे हुए है। अधिवक्ताओं ने तहसील परिसर में सेनेटाइजिड व तहसील गेट के सामने अधिवक्ता भवन बनाने की मांग की। इसके साथ ही गरीबों को कंबल और प्रतिदिन लग रहे जाम की समस्या से निजात दिलाने की मांग उठाई। इस मौके पर पूर्व अध्यक्ष शिवकुमार सिंह, श्रीकांत सिंह, कुबेर सिंह, अभयनाथ मौर्या, इस्लामुद्दीन, इशरार, दीना मौर्या,संतोष सिंह, सुभाष सिंह,सच्चिदानंद सिंह , विजय प्रताप सिंह सहित अन्य अधिवक्ता उपस्थित थे।

Edited By: Jagran