जासं, बरहनी (चंदौली) : काशी गोमती संयुत ग्रामीण बैंक कम्हरिया की शुक्रवार को तीन सदस्यीय समिति ने जांच की। अधिकारियों ने किसान बीमा, स्वास्थ्य बीमा, किसान क्रेडिट कार्ड खाता व अन्य ऋण खातों की एक-एक प्रविष्टी चेक की। लगभग तीन घंटे चली जांच के बाद अधिकारियों ने कुछ अभिलेखों को सीज कर दिया।

किसान विकास मंच के कार्यकर्ताओं संग किसानों ने मुख्य विकास अधिकारी से मिलकर स्वास्थ्य बीमा के नाम पर उनके केसीसी खातों से चार-चार हजार रुपये काटने की शिकायत कर जांच की मांग की थी। मामला गंभीर होने पर सीडीओ ने तीन सदस्यीय जांच बैठा दी। बैंक के उच्चाधिकारियों को जानकारी होने पर कुछ दिन पूर्व क्षेत्रीय कार्यालय की तीन सदस्यीय टीम ने बैंक के एक-एक अभिलेख खंगाले थे। शुक्रवार को एसडीएम सदर हीरा लाल मौर्य, जिला कृषि अधिकारी राजीव भारती, एलडीएम यूबीआइ पीके झा दोपहर में बैंक पहुंचे। गहनता से सभी अभिलेखों एवं किसानों के 400 से अधिक खातों की जांच की। खाताधारक रामचंद्र सिंह, रामवचन सिंह, राम अकबाल, रामराज उपाध्याय, रामजी उपाध्याय, सीता उपाध्याय का अभिलेखों में दो-दो बार बीमा होने पर टीम ने रिपोर्ट तैयार की। उनका पैसा खाते में लौटाने का निर्देश दिया। जानकारी होने पर कुछ किसान भी पहुंच गए और अधिकारियों को इनपुट दिए। चार घंटे चली जांच व पूछताछ से बैंक कर्मियों के पसीने छूट गए। अधिकारियों ने शाखा प्रबंधक को निर्देश दिया कि वे अब किसान हित में जिस भी योजना का लाभ दें किसानों को इसकी जानकारी दें। जिन खाताधारकों ने घोटाले का आरोप लगाया उनके खातों के पुराने लेन-देन के सारे कागजात एकत्र कर सीज कर दिए गए।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप