बुलंदशहर : उप्र के बुलंदशहर स्थित स्याना क्षेत्र में सोमवार को हुई ¨हसा के बाद पुलिस ने बुधवार को भी ¨हसा व गोकशी के आरोपितों की धर-पकड़ के लिए सर्च अभियान जारी रखा। मुख्य आरोपित बजरंग दल के जिला संयोजक योगेश राज का अभी तक सुराग नहीं लगा है। जबकि, गोकशी के चार आरोपितों को पकड़ लिया गया, जिसमें दो नामजद भी शामिल हैं। चारों को न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया।

उधर, बुधवार को कोतवाल के परिवार के बराबर मुआवजा आदि मांगों को लेकर मृतक सुमित के पिता अमरजीत समेत पूरा परिवार घर के आंगन में ही भूख हड़ताल पर बैठ गया है। योगेश राज ने एक वीडियो जारी कर खुद को बेकसूर बताया है। बवाल के दो और वीडियो वायरल हुए हैं।

सोमवार को स्याना थाना क्षेत्र की ¨चगरावठी पुलिस चौकी के महाव गांव के जंगल में गोवंश के अवशेष मिलने के बाद ¨हसा हो गई थी, जिसमें स्याना इंस्पेक्टर सुबोध कुमार ¨सह व ¨चगरावठी गांव निवासी सुमित (21) की गोली लगने से मौत हो गई थी। मंगलवार रात पुलिस ने ¨हसा के मुख्य आरोपित योगेश राज, भाजयुमो के नगर अध्यक्ष शिखर अग्रवाल और विश्व ¨हदू परिषद आदि संगठनों के नामजद आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए स्याना व नयाबांस समेत कई स्थानों पर दबिश दी। पुलिस इनमें से किसी भी नामजद को गिरफ्तार नहीं कर सकी। दूसरी ओर गोकशी के आरोप में नन्हें, आसिफ, सराफुद्दीन और साजिद जेल भेजे गए। चार गिरफ्तारी होने के बाद अब तीन लोगों की गिरफ्तारी होना शेष है। साजिद और सराफुद्दीन के परिजन गिरफ्तारी को गलत बता रहे हैं। साजिद के पिता साबिर हाफिज का कहना है कि वह परिवार के साथ पिछले पांच साल से फरीदाबाद (हरियाणा) में रहते हैं। गोकशी या इस प्रकरण से उनके बेटे का कोई लेना देना नहीं है। अब जहांगीराबाद में मिले गोवंश के अवशेष

बुधवार को जहांगीराबाद में गोवंश के अवशेष मिलने से हड़कंप मच गया। पुलिस ने आरिफ कुरैशी, अमान खां, राकिब मलिक निवासी मेरठ और वसीम पठान निवासी झांसी को गिरफ्तार कर लिया। ¨हदू संगठनों ने अवशेष को दफनाई गई जगह पर पूजा-अर्चना की। एक दिन का वेतन देंगे पुलिसकर्मी

बुलंदशहर ¨हसा में मारे गए स्याना थाना प्रभारी सुबोध कुमार ¨सह के परिजनों के लिए बुलंदशहर, गाजियाबाद, सहारनपुर, हापुड़ के पुलिसकर्मी एक दिन का वेतन स्वैच्छिक रूप से देंगे।

Posted By: Jagran