बुलंदशहर, जेएनएन।: पिछले सप्ताह आई बारिश से स्वच्छ हुई हवा अब फिर जहरीली होने लगी है। मंगलवार को बढ़ते-बढ़ते एक्यूआइ 279 पर पहुंच गया। प्रदूषण बढ़ने से लोगों की दिक्कतें भी बढ़ने लगी हैं। प्रदूषण बढ़ने के बीच भी शहर में कूड़ा बेरोकटोक जलाया जा रहा है, लेकिन जिम्मेदार अफसर चुप्पी साधे बैठे हैं।

27 नवंबर को आसपास के जिलों में और 28 को बुलंदशहर में बारिश हुई। इससे प्रदूषण भी धुल गया। एक्यूआइ (एयर क्वालिटी इंडेक्श) गिरकर 74 पर आया तो हवा स्वच्छ हो गई। लोगों को प्रदूषण से राहत मिली। लेकिन 30 नवंबर से एक्यूआइ फिर बढ़ना शुरू हो गया। मौसम ठंडा होने और कोहरे की हल्की धुंध होने के कारण धूल और मोनो कार्बन डाइ आक्साइड हवा में जम गए हैं। प्रदूषण तेजी से बढ़ रहा है। सोमवार को जिले का एक्यूआइ 204 रिकार्ड किया गया, जबकि मंगलवार को एक्यूआइ बढ़कर 279 पर पहुंच गया। निकटवर्ती जिला हापुड़ का एक्यूआइ 194 और दिल्ली का एक्यूआइ 282 रिकार्ड किया गया। बढ़ते प्रदूषण के बीच अस्थमा और हृदय रोगियों की दिक्कत बढ़ने लगी है। प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अधिकारी अगले कुछ दिनों में प्रदूषण और बढ़ने की संभावना जता रहे हैं। प्रदूषण बढ़ने के बीच भी शहर में सुबह के समय कहीं पर पालिका के कर्मचारी तो कहीं पर लोग ही कूड़ा जला देते हैं।

इन्होंने कहा.

सर्दी बढ़ने के साथ ही मौसम में कोहरे की धुंध भी बढ़ रही है। नतीजन प्रदूषण का ग्राफ बढ़ रहा है। सर्दी में हर साल एक्यूआइ बढ़ता ही है। जो लोग कूड़ा जला रहे हैं उन पर जुर्माना लगाया जाएगा।

-जीएस श्रीवास्तव, क्षेत्रीय अधिकारी, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप