मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

बुलंदशहर, जेएनएन: एससी-एसटी आयोग के पूर्व अध्यक्ष पीएल पुनिया ने शुक्रवार को कार से रौंद कर मौत के घाट उतारी गई देवरानी-जेठानी के परिजनो से मुलाकात कर पीड़ित परिवार को न्याय व आर्थिक मदद दिलाने का आश्वासन दिया। इसके बाद प्रेसवार्ता में राज्यसभा सदस्य ने पुलिस-प्रशासन से निष्पक्ष कार्रवाई की बात कही। इस दौरान उन्होंने प्रदेश सरकार पर हमला बोला, वहीं निष्पक्ष कार्रवाई नहीं होने पर समाज द्वारा बदला लेने के लिए सड़क पर आने की चेतावनी भी दी।

घटना की निदा करते हुए कहा कि प्रदेश सरकार को ऐसी घटनाओं पर रोक लगानी चाहिए। उन्होंने पीड़ित परिवार को हरसंभव न्याय दिलाने पर जोर दिया। घायलों को बेहतर उपचार, परिवार के सदस्य को सरकारी नौकरी व आर्थिक मदद देने की मांग प्रदेश सरकार से की। इसके बाद कांग्रेसी नेता श्यौपाल सिंह के आवास पर आयोजित प्रेस वार्ता में कहा कि प्रदेश में योगी सरकार आने के बाद से एक वर्ग पर अत्याचार की घटनाएं बढ़ी हैं। उन्होंने बुलंदशहर की घटना के आरोपितों को अलीगढ़ क्षेत्र के एक विधायक का रिश्तेदार होना भी बताया। कहा कि पुलिस ने मामले में गलत रिपोर्ट लिखी, जबकि मामला छेड़छाड़ और उसके बाद वारदात को अंजाम देना रहा। उन्होंने सवाल उठाते हुए कहा कि जब मामला एससीएसटी एक्ट से जुड़ा है तो अभी तक पीड़ित परिवार को केंद्र व राज्य सरकार की तरफ से आर्थिक मदद क्यों नहीं की गई। इस दौरान सुभाष गांधी, सुशील चौधरी, राकेश ठाकुर, सच्चिदानंद गौड़ आदि रहे।

-----------

सिटी मजिस्ट्रेट व एएसपी

को लगाई फटकार

एससीएसटी आयोग के पूर्व अध्यक्ष ने पीड़ित परिवार से मुलाकात करने के बाद पुलिस-प्रशासन से जानकारी हासिल करनी चाही, लेकिन मौके पर मौजूद सिटी मजिस्ट्रेट व एएसपी ने पूर्व अध्यक्ष से दूरी बनाई रखी। इसी बात को लेकर कांग्रेस के पूर्व विधायक बंशी सिंह पहाड़िया आग बबूला हो गए। वहीं पूर्व अध्यक्ष ने भी दोनों अधिकारियों के व्यवहार पर आपत्ति भी जताई और उनको फटकार भी लगाई।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप