बुलंदशहर, जेएनएन। पांच दिन पूर्व डिबाई क्षेत्र के एक गांव के जंगल में ट्यूबवेल पर एक किशोरी की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। स्वजन का आरोप है कि किशोरी के साथ सामूहिक दुष्कर्म हुआ। पुलिस ने चार दिन बीतने के बाद भी मेडिकल रिपोर्ट नहीं दी। आरोप है कि स्वजन को पुलिस ने दबाव में लेकर आधी रात में ही किशोरी का दाह संस्कार करा दिया। जानकारी होने पर पहुंचे एसपी देहात बजरंग बली चौरसिया और एसपी सिटी ने स्वजन को विवेचक बदलने और आरोपितों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने का आश्वासन दिया।

भारतीय किसान यूनियन महिला विग की जिलाध्यक्ष संजू चौधरी के नेतृत्व में बड़ी संख्या में महिलाएं और पुरुषों ने मंगलवार को एसएसपी कार्यालय का घेराव कर धरना दिया और डिबाई थाना प्रभारी को निलंबित करने की मांग की। वहां एसपी देहात बजरंग बली चौरसिया और एसपी सिटी सुरेंद्रनाथ तिवारी को स्वजन ने बताया कि उनकी बेटी ननिहाल में रहती थी। वहां से चार युवक उसे कार में अपहरण कर जंगल में ट्यूबवेल पर ले गए और सामूहिक दुष्कर्म किया और बाद में गोली मारकर हत्या कर दी थी।

आरोप है कि थाना प्रभारी ने स्वजन की तहरीर के आधार पर मुकदमा दर्ज नहीं किया और अपनी मर्जी से एक युवक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया। इस मौके पर बंटी शर्मा, मतलूम अहमद, राकेश शर्मा, अवलेश शर्मा, पप्पू, सोहन आदि मौजूद रहे।

...

ये है पुलिस की थ्योरी

एसपी देहात बजरंग बली ने बताया कि 21 जनवरी को एक लड़की जो बालिग है, अपने एक परिचित युवक के साथ ट्यूबवेल पर पहुंची थी। युवक ने तमंचे से युवती की गोली मारकर हत्या कर दी और खुद की भी गर्दन रेत ली थी। पुलिस को मौके से हत्या में प्रयुक्त तमंचा और आसपास के लोगों के बयान के अनुसार युवती और युवक के ही होने की पुष्टि की है। मामले में विवेचना जारी है। यदि कोई इस घटना में कोई अन्य युवक शामिल होगा तो उसके खिलाफ भी मुकदमा दर्ज कराया जाएगा। फिलहाल विवेचना जहांगीराबाद थाना प्रभारी को ट्रांसफर कर दी गई है। सभी पहलुओं पर गंभीरता से जांच की जाएगी।

...

राजू मलिक

Edited By: Jagran