जेएनएन, बुलंदशहर। औरंगाबाद क्षेत्र में शिकारियों की चहल-कदमी रुक नहीं रही है। हालात दिनों-दिन खतरनाक होते जा रहे हैं। वन विभाग व पुलिस शिकारियों को लेकर पूरी तरह उदासीन बनी हुई है। इसी का परिणाम है कि मंगलवार रात शिकारियों ने एक नील गाय को रात में गोली का शिकार बना लिया। नील गाय का अवशेष मिलने से ग्रामीणों में रोष है। उधर, वन विभाग ने मौके पर पहुंचकर नील गाय का शव कब्जे में लिया और पीएम के बाद उसे जमीन में दबा दिया। वन विभाग अब इस मामले की जांच कर रहा है।

गांव मूढ़ीबकापुर के जंगलों में मंगलवार रात ग्रामीणों ने गोलियां चलने की आवाज सुनी। खेतों पर रात में मौजूद लोगों ने इस दौरान शिकारियों के होने की बात कही। सुबह ग्रामीणों को एक खेत से नील गोवंश का शव मिला। इसमें शरीर पर गोली का निशान मिला। काफी संख्या में ग्रामीण यहां एकत्र हो गए। वन विभाग को पूरे मामले की जानकारी दी। वन दरोगा अभिषेक रस्तोगी मौके पर पहुंचे और जांच पड़ताल की। बाद में नील गाय का पीएम कराया गया।

एक साल पहले रजबाना में हुआ था नीलगाय का शिकार

ग्रामीणों ने बताया कि रात में शिकार होना आम बात है। यहां शिकारियों की आवाजाही लगातार है। वन विभाग पूरी तरह मूकदर्शन बना हुआ है। एक साल पहले रजबाना गांव में शिकारियों ने इसी तरह नील गाय का शिकार किया था। वह नीलगाय का मांस भी ले गए थे। इस घटना में भी जांच की बात कही गयी थी। आज तक जांच पूरी नहीं हुई और न ही शिकारियों को पकड़ा गया है।

इन्होंने कहा..

नील गाय का पीएम कराया गया है। उसके अंदर से गोली बरामद नहीं हुई है। किसी नुकीली चीज का घाव है। पूरे मामले की जांच की जा रही है।

अभिषेक रस्तोगी, वन दरोगा लक्ष्य से कम कर वसूली पर ईओ ने कर्मचारियों दिया नोटिस

जहांगीराबाद नगर पालिका परिषद की अधिशासी अधिकारी अमिता वरुण ने लक्ष्य से कम कर वसूली पर दर्जन भर कर्मचारियों को नोटिस दिए हैं।

ईओ ने बुधवार को अपने कार्यालय में कर्मचारियों की जमकर फटकार लगाई। सभी कर्मचारियों से लक्ष्य के सापेक्ष की गई के वसूली को लेकर ईओ ने जानकारी ली। जिसके बाद ईओ ने कर वसूली में लगे ऐसे कर्मचारियों के जमकर पेच कसे जो कर वसूली के लक्ष्य में पिछड़ गए। इस बारे में ईओ अमिता वरूण ने जानकारी देते हुए बताया कि लगभग 15 कर्मचारियों को नोटिस देकर स्पष्टीकरण मांगा गया है। साथ ही उनसे जल्द से जल्द अपना लक्ष्य पूरा करने के लिए भी कहा गया है। कर वसूली में पिछड़ने पर कर्मचारियों के खिलाफ विभागीय कार्यवाही अमल में लाई जाएगी।

Edited By: Jagran